An important notice

🌅 Good morning dear readers,

Friends, I had told you that as soon as my new poetic satirist will complete, I will broadcast my own creative friend live on your own YouTube channel Vikrant Rajliwal.

Today, I am very happy to inform all of you that now you will not have to wait any more because on today, 15/12/2018, at 8:30 pm, you will live your first time on your own YouTube channel Vikrant Rajliwal. Having been a new poetic satire with you, to fulfill all of you with joy.

Thank you.

Creator Vikrant Rajlewal

The url of my YouTube channel is listed below.

https://www.youtube.com/channel/UCs02SBNIYobdmY6Jeq0n73AIMG_20181115_131830_340

Advertisements

एक महत्वपूर्ण सूचना।

🌅 सुप्रभात प्रिय पाठकों,

मित्रों जेसा की मैंने आपसे कहा था कि जैसे ही मेरा एक नवीन काव्य व्यंग्य किस्सा मंत्री जी पूर्ण हो जाएगा तो उसको मैं आपका अपना रचनाकार मित्र आपके अपने YouTube चैनल Vikrant Rajliwal पर Live प्रसारतीत करूँगा।

आज आप सभी को यह सूचित करते हुए मुझ को अत्यंत हर्ष महसूस हो रहा है कि अब आपको और अधिक इंतज़ार नही करना होगा क्योंकि आज दिनांक 15/12/2018 को रात्रि 8:30 बजे आपके अपने YouTube चैनल Vikrant Rajliwal पर प्रथम बार Live आ रहा हु अपनी एक नवीन काव्य व्यंग्य किस्सा के साथ आप सभी को हर्षोउल्लास से पूर्ण करने के लिए।

धन्यवाद।

रचनाकार विक्रांत राजलीवाल

मेरे YouTube चेनल का url नीचे अंकित है।

https://www.youtube.com/channel/UCs02SBNIYobdmY6Jeq0n73A IMG_20181115_131830_340

💥 Recovery is your birthright.

Recovery of which you really have the right. Recovery Through those positive actions and sacred prayers, those emotions, those rights, those honorable things and things that your addiction * addiction * has thrown you away from you and pushed you into an eternal poverty.

Poverty is of good quality, poverty is not able to accept a lack of selflessness, living a free and immersive life away from its addictions. Eliminating all these types of poverty, accepting the real person of yourself. Ever living daily with virtuous habits and for his favors and for all those devils, who are still being spent in some way while still wasting their precious lives in the wake of some kind of addiction. By praying with your conscience in your heart’s heart for your self and self-satisfaction, you can achieve your eternal life by living a daily recovery every day.
For this, you need a proper guidance and a realistic experience that will enable you to save your ability to provide a positive and positive environment through every possible step of your real experience and knowledge.

The rest of the next sequence …

Written by Vikrant Rajliwal

(Tralslation by Vikrant Rajliwal)

09/12/2018 at 21:47FB_IMG_1534055668460pm

💥 रिकवरी आपका जन्म-सिद्ध अधिकार।

रिकवरी जिसके की आप वास्तव मे अधिकारी है। रिकवरी अपने सकरात्मक कर्मो एव पवित्र प्रार्थनाओं के द्वारा उन भाव-व्यवहारों की, उन अधिकारों की, उन मान सम्मान एव वस्तुओँ की, जिसे आपके व्यसनों *एडिक्शन* ने आपको भृमित कर आपसे कोसो दूर करते हुए आपको एक अनन्तकालीं दरिद्रता में धकेल दिया था।

दरिद्रता नेक भाव-व्यवहारो की, दरिद्रता अपने व्यसनों से दूर एक स्वतंत्र एव उन्मुक्त जीवन को जीने की, दरिद्रता स्वम् को स्वीकार न कर सकने की। इन सभी प्रकार की दरिद्रता को मिटाते हुए स्वम् के वास्तविक व्यक्तिव को स्वीकारते हुए। प्रतिदिन नेक भाव-व्यवहारों से पूर्व जीवन व्यतीत करते हुए एव अपने इष्ट से अपने एव उन सभी भृमित व्यसनियों के लिए जो आज भी किसी न किसी प्रकार के व्यसन की गिरफ्त में अपना अनमोल जीवन बर्बाद करते हुए किसी प्रकार से सिर्फ व्यतीत किए जा रहे है। अपनी एव उनकी आत्मशांति के लिए अपने ह्रदय स्वरूप अपनी अंतरात्मा से प्रार्थना करते हुए आप अपने जीवन स्वरूप अपनी एक अनन्तकालीं रिकवरी को प्रतिदिन जीते हुए प्राप्त कर सकते है।
इसके लिए आपको एक उचित मार्गदर्शन एव वास्तविक अनुभवशाली एक ऐसे व्यवक्त्वि की आवश्यकता होती है जो आपको अपने वास्तविक अनुभव एव ज्ञान के द्वारा आपको आपके हर एक बढ़ते कदम से एक उचित सकारात्मक वातावरण प्रदान करने की एक क्षमता सहेज ही उपलब्ध करवा सके।

शेष अगले क्रम से…

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

09/12/2018 at 11:30aFB_IMG_1534055668460m

❤ दिल से। (विक्रांत राजलीवाल शायरी)

💌
चल रहे है राही राह अंजान पर जिंदगी के हर ओर, सांसो में अपनी एक विशवास सा लिए।

हर ठोकर को कर नज़रअंदाज़ धड़कते दिल के अपने एक धड़कती धड़कन सी लिए।।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।
💌
रात कि तन्हाइयो में अब भी है कॉयम, टूटे दिल कि टूटती धड़कने वो यादे तेरी अब भी कही।

तेरे चेहरे कि मासूमियत वॉर फरेबी निगाहों से ज़ख्म जो ताजा टूटे दिल मे है अब भी कही।।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।
💌
इंतज़ार है हर लम्हा किसी के इकरार का।
किसी अपने का उसके एक इज़्हार का।।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।
💌
मैं हु एक मुसाफ़िर रास्ता ये अंजाना है।
हर मोड़ ज़िन्दगी ये वक़्त सदियों से है तन्हा,
ये दिल दीवाना है।।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।
💌
ये खेल ज़िन्दगी, बेदर्द एक अहसास, नही खेल है कोई।
हर अहसास, एक तरंग ज़िन्दगी, सांसोCollageMaker_20181029_122904945.jpg से है मेरे टकराई।।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

👉💌

महोबत में तेरी,

यह दिल खो गया।

धड़कने है तन्हा मेरी

सितम हो गया।

पहेलु में यार के

नशा हो गया।

देख कर चेहरा-हसीन

यह दिल खो गया…

रचनाकार विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

💌
करते है राज दिलों पर दिलवाले अक्सर,
हम तो पता ही भूल बैठे है दिल का अपने यारो।

दिख जाएगा राह ए महोबत एक निसान जो अक्सर।
दिल ये दीवाने का आता है नज़र टूटा सा जो अक्सर।।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।
💌
जिंदगी।

घुट घुट पी ली जो हवा, हर घुट से अहसास धड़कने।
तरंग एक दर्द, हर घुट से आरज़ू, ये धड़कती धड़कने।।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

💌
लिखने वाले ने लिख दी दास्तां ए महोबत।
सुनाने वाले ने सुना दी दास्तां ए महोबत।।

क़त्ल हो गया!!! चढ़ गए सूली पर हर एक आशिक़, पढ़ने और सुनने वाले…दास्तां ए महोबत।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

पुनः प्रकाशित एक संग्रह के रूप में परतम बात 08/12/2018 at 13:35 pm

A feeling! Which is inspired by the truth.

IMG_20180812_084738_526Often times, many acquaintances and individuals of different personalities often ask me whether Vikrant Rajliwal was in the category of illiterate till 10th pass till some time ago. And you have to

In 2003, for nearly 19 months, I had to live in rehabilitation center! I am still not fully aware of the actual situation of the year, because even today due to the mental conditions you had suffered due to intoxication, you still do not remember certain topics. So far I have known or remembered that is the year 2004 but my elders talk to me to remind me of the year 2003. well whatever…

From 2004 to 2005, you were also taken to the mental hospital Shahdara. To discuss In the meantime, you have a one-year course with a course of course. And according to you, you were also active in trying to get an opportunity to get further education. In December 2007, your marriage was also cleared.

Regardless of all this, when you have been given the opportunity to receive further education, or even after marriage, you see it after reading, read the 12th Indiragandhi Open University in 2009 and passing the bachelor’s degree from the University of Delhi in 2013. .

It is also a matter of great admiration and pride that in the first attempt of one of its most vulnerable social mugs, which struck the social evils through the poetry of its social and humanity, full poems.
Where by July 2016 you did not like to use or use mobile till the same day, today you are active on many blog websites and 270 + najm poetry poems and some of the few dozen social and humanity inspired by God in the first 6 to 7 months. Write articles as well. The number of people who have increased day by day, has become more and more.

There is another upcoming book that has detailed pain in the form of Najm Shayari. Now almost complete is ready for publication, and with this, you have a detailed drama whose center point is inspired by family fluctuations and highly endearing love affair. Is moving forward.

💖 And most importantly, today you are spending a happy and peaceful life with your family members. Seeing all this, how did you do it?

Is this a miracle or a witchcraft?

👉 Then I would like to say to all those great greats that the work seems to have happened suddenly or I feel that the duration of the work which is being filled with momentum or lust for the last few years!

Friends, it takes me about 14 to 15 years to complete the work of a full-time or lunar year. It was not as simple as you seem to be.

In 2004, when I realized the realization or knowledge of the knowledge, the pain in the rehabilitation center, struggling with the reality of life, feeling all the realities of life, understanding them very closely!

In the end, an interview was done from Swam to Swam, my friends of my real existence. From that time onward, I have reached it today and I am still going to burn / continue forever. In the year 2008, Indra Gandhi completed the 12th class form from Gandhi University and passed the graduation degree from Delhi University in the year 2013. Despite having a belief in his work, despite having a belief in his work, after you graduate education, the Union Public Service Commission’s Cochin Leve and prepare.

He also passed a written examination of one-half graduation level government examination. In 2016, to publish some of its most sensitive poetry books, to help innocent people of their exploited society publish a book of highly sensitive poems. The name of which is realized is published by Sanjog publication Shahdara in January 2016, Delhi World Books.

In July 2016, started working on the computer with the first mobile. The blog was created in May 2017 and written 200+ topics in 3 to 4 months, it has continued to circulate around 350 + Nazm, 90 + wide (large) and many poems, 30+ detailed poetry poems, darshan, detailed articles and many Short essay and an earlier song and satirical anecdote. I have written on online blogs I have also done audit as a handwritten note which will soon be published as a collection of compositions through an upcoming book on one side.

👉 How can all this be achieved? Friends have hidden a great feeling behind it and that is the infinite love and discipline of my mother and father.

There is a great feeling hidden behind this work and it is the infinite love of God and the boundless love and blessings of all friends and gurus.

Lastly I would like to say that …

🌻 This is a journey of few moments, which has been done in many years.

I had to burn, had to burn, I was going to burn ..

Every pain becomes a lesson, which neither learns, smiles at every pain o sept.

The stream which flows through this life, gives it a music, then it recites ..

The breaks are hidden when all of hope is expected.

The sun shines out of a truth then ..

This is the journey of few moments, which has been done in many years.

I had to burn. I have to burn. I am going to burn..

A true experience related to his life written by writer and freelance writer Vikrant Rajliwal.

(Translation of my real life experiences by me)

Republish

एक एहसास! सत्य से प्रेरित है जो।

अक्सर कई बार कई परिचित एव अलग अलग व्यक्तित्व के व्यक्ति अक्सर मुझ से पूछते है कि विक्रांत राजलीवाल जी आप अभी कुछ समय पूर्व तक अनपढ़ 2008 तक(10th pass) की श्रेणी में थे। और आपको 2004 मार्च या
2003 मे लगभग 19 महीने तक पुनर्वासकेन्द्र(नशामुक्तिकेंद्र)में रहना पड़ा था! यहाँ वर्ष की वास्तविक स्थिति का मुझे आज भी पूर्णतः ज्ञात नही है क्योंकि आज भी आपको नशे के कारण जिन मानसिक स्थितियों से सामना करना पड़ा था उसकी वजह से आज भी आपको कुछ कुछ विषय पूर्णता स्मरण नहो हो पाते। यहाँ तक मुझ को ज्ञात या स्मरण है वह वर्ष 2004 है परंतु मेरे गुरुजन मुझ को आज भी वर्ष 2003 का स्मरण दिलाने की बात करते है। खैर जो भी हो…

आपको 2004 से 2005 तक मानसिक चिकित्सालय शाहदरा भी ले जाया जाता था। विचारविमर्श करने को। इसी दौरान आपने एक साल के कम्प्यूटर कोर्स के साथ ही एक तंकन का कोर्स। एव आप के अनुसार आप आगे शिक्षा प्राप्त करने का अवसर भी प्राप्त करने की कोशिश में सक्रिय थे। ऐसे में दिसम्बर 2007 में आपका विवाह भी सम्पन कर दिया गया।

इन सब के बाबजूद जब आपको आगे शिक्षा प्राप्त करने का अवसर दिया गया या प्राप्त हुआ वो भी शादी के उपरांत तो आप देखते ही देखते पढ़ लिख गए 2009 में 12th इंदिरागांधी ओपन यूनिवर्सिटी से और 2013 में दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक पास कर के डिग्री प्राप्त करि।

अपने एक अति संवेदनशील समाजिक मुदो पर अपने प्रथम प्रयास से अपनी समाजिक एव मानवता की भावनाओ से पूर्ण कविताओं के द्वारा जो समाजिक कुरीतियों पर जो प्रहार किया वो भी बेहद सराहनीय एव गर्व का विषय है।
जहाँ 2016 जुलाई तक आप मोबाइल तक का इस्तमाल या उपयोग करना पसंद नही करते थे वही आज आप कई ब्लॉग वेबसाइट पर सक्रिय है एव अपने शुरुआती 6 से 7 महीने में ही 270 + नज़्म काव्य कविताएं एव कुछ की दर्जन समाजिक एव मानवता की भगवन से प्रेरित लेख भी लिखे दिए। जिनकी संख्या अब दिन प्रतिदिन बढ़ते हुए और ही अधिक हो गईं है।

आप कि एक और आगामी पुस्तक जो कि नज़्म शायरी के रूप में विस्तृत दर्द भरे किस्से है लगभग प्रकाशन के लिए अब पूर्णता तैयार है एव इसके साथ ही आप एक विस्तृत नाटक जिसका केंद्र बिंदु पारिवारिक उतार चढ़ाव एव अति संविदनशील प्रेम प्रसंगों से प्रेरित है अब समापन की ओर अग्रसर है।

💖 और सबसे अहम बात यह है कि आज आप अपने परिवार के सदस्यों के साथ एक सम्पन और शान्ति से परिपूर्ण जिंदगी व्यतीत कर रहे है। यह सब देखते ही देखते आप ने कैसे कर दिखाया

क्या यह कोई चमत्कार है या कोई जादू टोना है?

👉 तो मै उन सभी महानुभवों से यही कहना चाहूंगा कि जो कार्य आपको अकस्मात ही घटित हो गया हूं के जैसा प्रतीत हो रहा है या जिस कार्य की अवधि आपको अति पल भर की या चन्द वर्षो की प्रतीत हो रही है!

मित्रों यह पल भर या चन्द वर्षो की अवधि का कार्य सम्पन्न करने के लिए मुझ को लगभग 14 से 15 वर्ष का समय लगा है। यह सब इतना सरल नही था जितना कि आपको प्रतीत हो रहा है।

वर्ष 2004 में जब मुझको ज्ञान की प्राप्ति या ज्ञान का एहसास हुआ था पुनर्वासकेन्द्र में दर्द ए जिंदगी की हकीकत से झूझते हुए, जीवन के हर एहसास को महसूस करते हुए उन्हें बेहद समीप से समझते हुए!

अंत मे हुआ एक साक्षात्कार स्वम् से स्वम् का, अपने असली अस्तित्व का मेरे मित्रो।उस समय से निरन्तर चलते हुए जलते हुए आज मै यह तक पहुच पाया हु और अब भी मैं निरन्तर ही जलता/चलता जा रहा हु। वर्ष 2008 में इंद्रा गांधीयूनिवर्सिटी से 12 कक्षा का फार्म भरा और वर्ष 2013 में दिल्ली विश्विद्यालय से स्नातक की डिग्री उत्तीर्ण करि।अवसर की कमी के बाबजूद अपने कर्मो पर एक विशवास रखते हुए आपने स्नातक की शिक्षा के उपरांत 2013 में संघ लोक सेवा आयोग की कोचीन ली एव तैयारी करि।

एक आध स्नातक स्तरीय सरकारी परीक्षा का लिखित परीक्षा भी पास किया। 2016 में अपने शोषित समाज के मासूम व्यक्तिओ को कुछ राहत पहुचने की लिए अपनी अति संवेदनशील कविताओ की पुस्तक प्रकाशित करवाई।जिसका नाम एहसास है संजोग प्रकाशन शहादरा द्वारा प्रकाशित जनवरी 2016 दिल्ली विश्व पुस्तकमेला।

2016 जुलाई में प्रथम मोबाइल के साथ कम्प्यूटर पर कार्य करना आरम्भ किया। मई 2017 में ब्लॉग बनाए और 3 से 4 महीने में ही 200 +विषय लिखे यह सिलसिला चलता रहा आज लगभग 350 + नज़्म, जिसमे 90 +विस्तृत (बड़ी है) एव बहुत सी कविताए जिसमे से 30+ विस्तृत काव्य कविताए है दर्ज़नो विस्तृत लेख एवबहुतसे लघु लेख एव एक आध गीत एव व्यंग्य किस्सा। ऑनलाइन ब्लॉग पर लिख चुका हूं। 💖 एव हस्तलेख के रूप में ऑडिट भी कर चुका हूं जो जल्द ही अपनी रचनाओ के संग्रह के रूप में अपनी एक ओर आगामी पुस्तक के जरिए प्रकाशित करवा दूँगा।

👉 यह सब कैसे सम्पन हो पाया मित्रो इसके पीछे एक महान भावना छुपी है और वह है मेरे माता और पिता का असीम प्रेम और अनुशाशन।

💖 इस कार्य के पीछे छुपी है एक महान भावना और वह है ईष्वर की असीम कृपया एव आप सब मित्रो और गुरुजनों का असीम प्रेम एव आशीर्वाद।

अंत मे मैं इतना ही कहना चाहूंगा कि…

🌻 यह जो चन्द पलो का सफर है न जो, किया है तय कई वर्षों में।

जलना पड़ा था जलना पड़ेगा, जलता ही जा रहा हु मैं।।

हर दर्द एक सबक बन जाता है न जो, सीखा देता है मुस्कुराना हर दर्द ओ सितम में।

बहती है जो धारा ये जीवन की, देता है सुनाई एक संगीत फिर उस मे।।

टूट जाते है छुप जाते है जब सहारे उम्मीद के सब।

निकलता है सूर्य पुकार एक सत्य से तब।।

यह जो चन्द पलो का सफर है न जो, किया है तय कई वर्षो में।

जलना पड़ा था जलना पड़ेगा जलता ही जा रहा हु मैं।।

💥 रचनाकार एव स्वतन्त्र लेखक विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित उनके जीवन से सम्बंधित एक सत्य अनुभव।🖋

(Republish)IMG_20180812_084738_526.jpg

👺 बेदर्द ज़माना।

20181124_120423चले जाते है यार मेरे अक्सर बीच मझदार छोड़ कर।

देखता हूं राह मैं उनकी फिर काम सारे छोड़ कर।।

आते नही दुबारा से वो, फिर दिखते नही दोबारा से वो।

खड़ा हूँ अब भी राह पर वही, देख रहा हु रास्ता उनका, मगर दिखते नही फिर कहि वो।।

क्या ये ही जिंदगी है एक ख्वाब मेरा टूटा एतबार जो पुराना,
देख रहा हु जो एक ज़माने से वही पर अब भी मैं जो।।।

सितमगर हज़ारो मिले बेदर्द इस ज़माने में।

तोड़ा है दिल ए दीवाना यहाँ हर किसी ने।।

लगते है तन्हाई में इल्जाम कई संगीन, हो जाता है मजबूर दीवाना।

दिखता नही तड़पते साए से अपने, जब भी कोई खोया साथी पुराना।।

दिख तो जाते है चेहरे वही, पर दिखता नही उनमे वो उनका अक्स पुराना।।।

रचनाकार विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

(06/12/2018 at 21:05pm)

(पुनः प्रकाशित)

🕯 एक सफ़र-ज़िन्दगी।

IMG_20181026_073844_067ज़िन्दगी की भाग-दौड़ में मित्र साथी वो बच्चपन के दिन न जाने कहाँ खो गए।

दर्द तकलीफ़ एक घुटन सी जिंदगी, हर क्षण उदासी सी कोई साथ हमारे हो गए।।

मुस्कान ये चेहरे की बनावट, जो मुखोटा सा कोई, छल है हर क्षण साथ सांसो के जहर ये जो ज़िन्दगी।

सफर ये जलते शोले, राह ए शूल मंजिलो के मिटते निशान, ख़ामोश है राही हर लम्हा, ज़ख्म ये नासूर जो जिंदगी।।

न कोई दवा है न कोई दुआ, हर ज़ख्म बन गया जो एक बद्दुआ, तड़प सासों की तड़पती है अब धड़कने हर लम्हा।

जुल्म न सितम कोई अब बाकी रहा, बढ़ते हर कदमो से बढ़ते फासले, सफर अधूरा सा है अब भी ज़िन्दगी हर लम्हा।।

स्वतन्त्र लेखक विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।
21/04/2018 at 23:00pm

(पुनः प्रकाशित।)

🙏 धन्यवाद।🎉 🙏 Thank You.🎉

आपके सभी प्रियजनों एव मित्रजनों का आपके अपने रचनाकार मित्र विक्रांत राजलीवाल (स्वम्)की रचनाओं को अपना अनमोल प्रेम प्रदान करने लिए अपने ह्रदय से आपका आभारी आपका अपना विक्रांत राजलीवाल (एक स्वतंत्र लेखक)

20181205_195157Your heartfelt gratitude to your loved ones from your heart, to give your precious love to the creators of your own creator friend Vikrant Rajaliwal (Myself) of your loved ones and friends, Rajliwal (a freelance writer)

05/12/2018 at 19:59 pm