FB_IMG_1497158859549.jpg चल रही है किश्ती, ढूंढ़ने को किनारे कोई

उफान ए समंदर, से टुटते हौसले।

फंसे है मुसाफ़िर अनजाने कई

राह उमीद एक लिए हुए।।

देख के रोशन, चाँद से, उठती है तरंगे कई
हर तरंग साथ अपने,जान कई लिए हुए।

उमीद है, जल्द ही थम जायगा, तूफ़ान ए जज़्बात
हर जज़्बात, दुआ ए ज़िंदगी, साथ अपनो के, लिए हुए।।

लेखन द्वारा विक्रांत राजलिवाल।

⛈ Kashmakash.. .

Chl rhi hai kishti, dondene ko kinara koi
Ufaan ae samander Se tuttey hosaley

Fasey hai musafir anjane kai
Rah umeed ek liye huye

Dekh ke roshni chand se, uthti hai tarange kai

Har tarang , sath apne, jaan kai liye huye

Umeed ke jald hi tham jayega toffan ae jajbaat
Har jajbaat , dua ae zindagi, sath apno ke liye, huye…

lekhn dwara✍Vikrant Rajliwal.

*Hindi Poetry, Shayari & Story Article’s* view on tumblr

Advertisements

Leave a Reply