FB_IMG_1497960266862.jpgख्वाबो में, अब भी मेरे, एक चेहरा नज़र आता है।

उजाड़ है गुलिस्तां मेरा, फिर न जाने क्यों, खिला वहाँ एक गुलाब नज़र आता है।

जब भी देखता हूं आईना ए महोबत, चेहरा ए सनम,
न जाने क्यों नज़र उसमे आता है।

हकीकत कहु जा अफ़साना कोई, तन्हाई में हमेशा से वो, बिछुड़ा सनम, याद बहुत आता है…💞

लेखन द्वारा विक्रांत राजलीवाल।

🎻

Gulsitan…

💘Kwaabu me, ab bhi mere, ek chehra nazar aata hai

Ujaad hai gulshal mera, fir na jane kyu, khila wha ek gulaab nazar aata hai

Jab bhi dekhta ho aaina ae mahobat, chehra ae sanam, na jane kyu, nazar uasme aata hai

Hakikat khu ya afsana koi, tanhai mei hamesha se wo, bichuda sanam yaad bhhut aata hai…💞

Lekhn dwara Vikrant Rajliwal

#^Hindi Poetry, Shayari & Story Articles^# view on tumblr

Advertisements

Leave a Reply