नज़रो में तेरी, एक दर्द, तन्हा वो अहसास, नज़र कोई अपना, मुझ-को आता है।

मायूस है चेहरा तेरा, अक्स ए यार, अधूरा कोई ख़्वाब, नज़र क्यों मुझ-को आता है

लेखन द्वारा विक्रांत राजलिवाल।

Nazro mai tere, ek dard, tanha wo ahsaas, nazar koi apna, muz-ko ata hai

Mayus hai chera tera, aks ae yar, adhura koi khwab, nazar kyu muz-ko ata hai

Lekh dwara Vikrant Rajliwal
#Hindi Poetry, Shayari & Story Article’s#FB_IMG_1498192200281.jpg

Advertisements

Leave a Reply