ज़ख्म भर जाते है दिल के, ए वख्त
निसान फिर भी दिख जाते है तमाम… विक्रांत राजलीवाल।FB_IMG_1498367578998

Advertisements

Leave a Reply