जशन है फ़िज़ा में, दिल ये उदास

ढूंढता है अब भी,

कदमो के बेगाना, अपने जो निसान।

हालात ए ज़िन्दगी, ये ख़ामोशी है क्यों,

FB_IMG_1497117823044 भूल गया जो लम्हा,

वो ये नही।।. ..लेखन द्वारा विक्रांत राजलिवाल।
# Hindi Poetry, Shayari & Story Article’s #

Advertisements

Leave a Reply