🍒 लव्ज़ ए महोबत…

नफ़रत है लव्ज़-महोबत से, दीवाने को अब बेहिंतिया

नफ़रत है हर एक उस आरज़ू-अधूरी से, दीवाने को अब बेहिंतिया

एक मुकम्बल अंजाम से पहले, जिसे, महोबत ने तोड़ दिया

नफरत है हर एक, काफ़िर उस हसीना से, दीवाने को अब बेहिंतिया

थाम के हाथ महोबत का महोबत से, तन्हा फिर दीवाने को छोड़ दिया

नफ़रत है हर एक अदा ए हुस्न, जहरीली से, दीवाने को अब बेहिंतिया

दिखा कर, ख़्वाब ए महोबत, एक धोखा, वो रंगीन

सरे-राह, बेदर्दी से, जिसे फिर तोड़ दिया.. .

लेखन द्वारा विक्रांत राजलीवाल।

💔

Lavaj ae mahobat…

nafrat hai lavaj mahobat se, deewane ko ab, behintiya

nafrat hai har ek us adhuri aarzo se, deewane ko ab, behintiya

Ek mukammal anjaam, se phele, jise, mahobat ne toad diya

nafrat hai, har ek, kafeer us haseena se, deewane ko ab, behintiya

Tham ke hath mahobat ka, mahobat se, tanha fir, deewane ko chod diya

Nafrat hai har ek adaa ae husn, zahreeli se, deewane ko ab behintiya

Dikha kar kawab ae mahobat, ek dhokha, wo rangeen

Sare rah, bedardi se, jise fir tod diya.. .

Lekhn dwara Vikrant Rajliwal.

#^Hindi Poetry, Shayari & Story Article’s^#view on tumblrFB_IMG_1498366951369

Advertisements

Leave a Reply