हर गहराइयों से, ए महोबत, दिल की अपने
याद दीवाना, तुझ-को, हर एक पल करता है।

हर गज़ल, हर गीत, दर्द ए दिल, यादे तेरी
दीदार ए सनम, एक ज़माने से, दिल तड़पता है।।

लेखन द्वारा विक्रांत राजलीवाल।
# Hindi Poetry, Shayari & Story
Article’s-writer poet-Vikrant- #FB_IMG_1499013068148

Advertisements

Leave a Reply