इंतेज़ार है हर लम्हा किसी के इक़रार का,
किसी अपने का, उसके एक इज़हार का. ..
लेखन द्वारा विक्रांत राजलीवाल।

Advertisements

Leave a Reply