एक ज़माने से है इंतजार ए महोबत
हर लम्हा है एक तमना दीदार तेरा।

दिल मे धड़कनो से दबाए जा रहे है
हर जुल्म ओ सितम, ए सितमगर तेरा।।

न ले इन्तेहाँ, ये मौसम दीवाने आ अपने
आईने में दिल के है ये अक्स महोबत तेरा।

रुस्वा ये ज़माना, एक ज़माने से, कर रहा है किसको
बेजान जिस्म, ये हाल ए दिवाना, ये धड़कता दिल है तेरा।।

लेखन द्वारा विक्रांत राजलीवाल।

Ek Deewana

Ek zamane se hai intezaar ae mahobat
Har lamha hai ek tammna deedar tera

Dil me dharkano se dabaye ja rhe hai
Har julm o sitam, ae sitamgar tera

Na le imtehan, ye mousam, dewane ka apane
Aaine me dil ke hai ye aksh mahobat tera

Ruswa ye zamana, ek zamane se, kar rha hai kisko
Bejan jism, ye haal ae deewana, ye dhadkta dil hai tera

Lekhan dwara Vikrant Rajliwal

#Hindi Poetry, Shayari & Story Article’s#

 

 

Advertisements

Leave a Reply