नही सोचा था एक रोज़ ए वक़्त, वक़्त ऐसा भी आएगा।
भूल के दिल-धड़कनो को अपने, बेहिंतिया तड़पायेगा।।

ये तारीख़, अनहोनी कोई, ये आसमां आज फट जाएगा।
बरस रहे शोले, याद कोई,नाम बन्द जुबां पर आ जायेगा।।

जला दिया अक्स ए यार, लहू इन फड़कती नसों से जो अपने ,
एक आरज़ू, सितम है महोबत, जिंदा सासो को जो तोड़ दिया।

चले आए, भूल कर मौसम, वो सुहाना, ज़िंदगानी से जो अपने,
एक चाल, वक़्त है महोबत, हसीन वो ख़्वाब, जो तोड़ दिया।।

लेखन द्वारा विक्रांत राजलीवाल।

Dil se.

Nhi socha tha ek roz, ae wkht, wkht aesa bhi ayega,
Bhul ke dil-dharkano ko apne, behintiya tadpaya

Ye tarikh, anhoni koi, ye asman aaj fat jayega
Barash rhe shole, yaad koi, naam band juba pr aa jayega

Jla diya aks ae yaar, lahu in fadkti naso se jo apne
Ek aarzo, sitam hai mahobat, jinda saso ko jo tod diya

Chale aaye, bhul kar mousam, wo suhana, zindagani se jo apane
Ek chaal, wkht hai mahobat, haseen wo khwaab jo tod diya

Lekhan dwara Vikrant Rajliwal

Hindi Poetry, Shayari & Story Article’s

Advertisements

Leave a Reply