अक्सर देखता हूं, अधूरी चिता कि जलती वो भस्म अपनी।
जो पूरी तरह जल न पाई , राख हो कर भी जो मिट न पाई।।

उठते है शोले, खामोश वो लम्हे, एक खामोशी के साथ।
बेदम सा दम, लड़खड़ाते अहसास, एक बेबसी के साथ।।

वीरान है समा, लहूलुहान वो राह, एक मुसाफ़िर के साथ।
लहू ए ज़िगर, उजड़ता वो गुलिस्तां, एक मुसाफ़िर के साथ।।

हालात ये नासूर से है, बेगानी हर एक धड़कन के साथ।
ज़ख्म उखड़ती सासो से है, जख़्मी हर अहसास के साथ।।

बर्बादी का आलम कुछ इस तरह से है…

जिस्म जिंदा है ज़िन्दगी,रूह खो गई है शायद
अपनी किसी खामोशी के साथ

अहसास ज़िंदा है आरज़ू, धड़कने खो गईं है शायद
अपनी किसी बेबसी के साथ

लेखन द्वारा विक्रांत राजलीवाल।

Ahasas

Aksar dekhta hu, adhuri cheeta ki, jalti wo bhashm apni
Jo puri tarh jal na pai,rakh ho kar bhi jo
mit na pai

Uathtey hai sholey, khamosh wo lamhe, ek
khamoshi ke sath
Be-dum sa dum, ladkhdate ahsaas, ek bebasi ke sath

Veeran hai sma, lahuluhan wo rah, ek musafir ke sath
Lahu ae jigar, uajdta wo gulistan, ek musafir ke sath

Haalat ye nasur se hai, begani hr dharkan ke sath
Jakham ukhdti saso se hai, jakhmi hr ahsaas ke sath

 

Barbadi ka alam kuch iss tarh se hai…

Jism jinda hai zindagi, ruh kho gyi hai sayad
Apni kissi khamoshi ke sath

Ahsaas zinda hai aarzo, dhakne kho gyi hai sayad, apni bebasi ke sath

lekhn dwara Vikrant Rajliwal
#Hindi Poetry, Shayari & Story Article’s

Advertisements

Leave a Reply