चाँद रात से,लाया था चुरा कर चाँदनी

कदमो में सनम के बिछाने को

कर दिया वॉर सीने पर मेरे

दिखा के चाँद हथेली से

खूश्बु थी बहारो की

या साया कोई खुमारी

थी हसीन-हसीनो में वो

दिलकश उसकी हर अदाकारी

उजाड़ कर गुलिस्ता मेरा

चली गयी नोच के फिर वो

कलिया महोबत की सारी. ..

लेखन द्वारा विक्रांत राजलीवाल।

Afsaana

Chand raat se, laya tha, chura kar chandani

Kadmo me sanam ke bhichane ko

Kar diya vaar sene par mere

Dikha kar chand hatheli se

Khushbu the bharon ki

Ya saya koi khumarie

The haseen-haseeno me wo

Dil-kash usaki har adakari

Ujaad kar gulistan mera

Chali gyi noch kar fir wo

Kaliyan mahobat ki sari…

Lekhan dwara Vikrant Rajliwal

^Hindi Poetry, Shayari & Story Article’s^ view on WordPress & tumblr

Advertisements

Leave a Reply