ये जो जगह खाली सी है दिल में तुम्हारे कहि।
एक निसान बाकी है जख्मो पर तुम्हारे अभी।।

ये दर्द तड़पायेगा तुमको, कसक ज़िन्दगी से ख़ामोशीया अभी।
मन्ज़िले है दूर बहुत, इन्तेहाँ ज़िन्दगी के बेदर्द बाकी है ये दर्द अभी।।

ये राह जो सुनसान ए राही, अंजान साए से आपने दूरिया अभी। प्यासी है रूह बहुत, सकूँ ज़िन्दगी के सासे बाकी है ये दर्द अभी।।

ये आलम जो रुसवाईयाँ हमको, हर लम्हा तड़प ज़िन्दगी अभी।
यक़ीन है बर्बादियों बहुत, हालात एक ज़हर ज़िन्दगी बाकी है ये दर्द अभी।।

ये जो साए साथ-साथ, साथ जो नही, हर साया अंजान अभी।
महोबत है जुल्म बहुत, साथ ज़िन्दगी से ज़िन्दगी का बाकी है ये दर्द अभी।।

लेखन द्वारा विक्रांत राजलीवाल।

Khali jagah.

Ye jo jagah khali si hai dil me tumhare kahi
Ek nisan baki hai jakhmo par tumhare abhi

Ye dard tadpayega tumko, kasak zindagi se khamoshiya abhi
Manzile hai dor bhut, inteha zindagi ke bedard baki hai ye dard abhi

Ye rah jo sunsaan ae rahi, anjaan saye se apne duriya abhi
Pyaasi hai ruh bhut, sakun zindagi se sase baki hai ye dard abhi

 

Ye aalam jo ruswaiya humko, har lamha tadap zindagi abhi
Yakeen hai barbadiya bhut, haalat ek zaheer zindagi baki hai ye dard abhi

Ye jo saye sath-sath, sath jo nahi, har saya anjaan abhi
Mahobat hai zulm bhut, sath zindagi se zindagi ka baki hai ye dard abhi

Lekhan dwara Vikrant Rajliwal

Hindi Poetry, Shayari & Story Article’s

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Advertisements

Leave a Reply