नज़रो से दिल चुराने का हुनर, जानते है दीवाने
आँचल से दिल ये अपना छुपाए रहेना

चिर के दिल धड़कनो को कर देगा घायल
ये तीर महोबत के आजमाए हुए है

तेरे मासूम चेहरे की देख के मासूमियत
दीवाने भी धड़कता दिल अपना थामे हुए है

ये माना है तू मलिका ए हुस्न, कातिल है शराबी निगाहे ये तेरी।
नही है नादां, दीवाना भी तुझ से, वाकिफ है हर चल-जहरीली से वो तेरी।।

विक्रांतFB_IMG_1503227560815 राजलीवाल द्वारा लिखित।

💘Nazro se dil churane ka hunar zante hai deewane
Aachal se dil ye aapna chupaye rhena

Cheer ke dil dharkno ko ker dega ghayal
Ye teer-Mahoobat ke aajmaaye huye hai

Tere masum chehere ki dekh ke masumiyat
Deewane bhi dharkta dil apna thame huye hai

Ye mana hai tu malika-husan, katil hai sharaabi nigaahe ye teri
Nhi hai naadan deewana tuz se, wakif hai har chal jaherili se wo teri…

✍.Vikrant Rajliwal dwara likhit

Advertisements

Leave a Reply