FB_IMG_1509520817097.jpgघिर आई रात फिर से चाँदनी, गुजरे जो साये से उनके दीवाने।
राह ये सुनसान सी कोई, दिख रहे गुलिस्तां भी जाने-पहचाने।।

आलम ये रुसवाई का जो, सिने से लगाये, दर्द ए दिल,अश्क-तन्हा, अधूरी सी यादे वो उनकी, अब भी जो उनके दीवाने।

रंग ए लहू ये लाल आसमां, रुकी-धड़कने, उखड़ी सी सासे, गुजरे चौखट से ख़ामोश उनकी, दर्द अब भी जो उनके दीवाने।।

कसक ये टूटे दिल, टूट गई जो धड़कने, कदम ख़ामोश से अपने।
सुना रहे हाल ए दीवाना, जख्म दिल के, अब भी जो उनके दीवाने।।

न मरहम लगे, न दुआ कोई, कत्ल-अहसासों पर जख्मी है जो अपने।
नासूर बन जख्म ए दिल, उभरे दर्द अहसासों से उसके, अब भी जो उनके दीवाने।।

रचनाकार विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

Writer & Poet Vikrant Rajliwal Poetry, Shayari & Article’s

Advertisements

Leave a Reply