तेरी मुस्कुराहट में मुझ-को, फरेब कोई तेरा, हाथ-ख़ंजर बगल में छुपा कोई ज़हरीला नज़र आता है।
ये दिलकश तेरी अदाकारी, हर अदा चाल कोई घिनोनी, हर चाल में तेरी, ज़हFB_IMG_1509638688942.jpgरीला कोई जाल नज़र आता है।।

ये मासूम चेहरा, ये शराबी निगाहे, वॉर धड़कनो पर मेरे, दर्द ए दिल, कसूर इसमें भी मुझ-को तेरा नज़र आता है।
हक़ीक़त से वाकिफ़, नही नादां सितम महोबत से, है जो तेरा दीवाना, हर सितम धड़कनो को सितम, तेरा छुपा प्यार नज़र आता है।।

रचनाकार एव लेखक विक्रान्त राजलीवाल द्वारा लिखित।

Dard ae Dil.

Teri muskurahat me muz-ko, freab koi tera, hath-khnjar, bagal me chupa koi jaherila nazar aata hai

Ye dilkash teri adakari, har adaa chaal koi ghinoni,
har chaal me teri, jaherila koi jaal nazar aata hai

Ye masum chehara, ye sharabi nigahen, war dharkano par mere,
Dard ae dil, kasur isme bhi muz-ko tera nazar aata hai

Hakiqat se wakif, nhi nadan sitam mahobat se, hai jo tera dewana, har sitam dharkano ko, sitam chupa tera pyar nazar aata hai

Rachnakar aev lekhak Vikrant Rajliwal dwara likhit.

Advertisements

Leave a Reply