FB_IMG_1509952706340एक रोज़ जो न निकले सूर्य, छा जाए अंधकार जीवन मे हमारे, तो हैरत होगी क्या तुम्हें!

एक रोज़ जो सासे रुक जाए हमारी, बन्द सीने में ही धड़कने टूट जाए तो हैरत होगी क्या तुन्हें!

एक रोज़ जो राही भूल जाए रास्ता मंजिलो का अपनी, हो जाए लापता राह अनजान में कही,
तो हैरत होगी क्या तुम्हें!

एक रोज़ जो टूट जाए आईने सच्चाई के, अक्स भी धुंधला जाए, व्यक्तित्व का खुद की नज़रो में कही,
तो हैरत होगी क्या तुम्हें!

हा ये ज़िन्दगी है जिसे जीना ही होगा, भुला कर खुद को ज़हर-सासो से अपने, जिंदगी को पीना ही होगा।

ठहर गए है जो लम्हे-ज़िन्दगी, उन्हें जीने से पहले, उसे खुद मरना ही होगा, कफ़न हर आरज़ू का अपनी, खुद सीना ही होगा।

रचनाकार विक्रान्त राजलीवाल द्वारा लिखित।

Zindagi!

Ek roz jo na nikle suray, cha jaae andhkar jivan me hamare, to herat hogi kya tumhe!

Ek roz jo sase ruk jaae humari, band siney me hi dhadkane tut jaae, to herat hogi kya tumhe!

Ek roz jo rahi bhul jaae rasta manjilo ka apani, ho jaae lapta rah anjan me khen,
to herat hogi kya tumhen!

Ek roz jo tut jaae aaine sachai ke, aksh bhi dhundhala jaae, vyaktitv ka khud ki nazro me khen!
To herat hogi kya tumhen!

Ha ye zindagi hai jise jina hi hoga, bhula kar khud ko jaher sason se apane, zindagi ko pina hi hoga.

Tha-her gye jo lamhein-zindagi, unhen jine se pahele, usse khud marna hi hoga, kafan har aarzoo ka apani, khud sina hi hoga.

Rachnakar Vikrant Rajliwal dwara likhit.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s