खो गया है चाँद मेरा, चांदनी इस रात में कहि।

छिल गया है जख़्म मेरा, टूटा जो दिल का तार कहि।।

चाहत चीखती है मेरी, झिलमिल हर लम्हा नज़रो में कहि।

दर्द पुकारता है मेरा, ख़ामोश धड़कने, नाम-महोबत का वही।।

भड़क जाती है चिंगारी, आग दबी सासो में, अब भी जो कहि।

आईने टूटे है अक्स ए यार, दगा-महोबत, बेवफ़ाई उनमे कहि।।

चल रही है किश्ती, नाम ए वफ़ा, ऐतबार ए यार, डूबता मुसाफ़िर, जो तन्हा कही।

ढूंढ रही है साहिल, उफ़ान ए समुन्दर, उफनते जज़्बात, कत्ल जूझते अहसासों से कहि।।

रचनाकार विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

Tanhaayi

Kho gya hai chand mera, chandni is raat me kahi

Cheel gya hai jakham mera, tuta jo dil ka taar kahi

Chahat chikhti hai meri, jhilmil har lamha, nazron me kahi

Dard pukarta hai mera, khamosh dharkane, naam mahobat ka whi

Bhadhak jati hai cheengari, aag dabi saso me, ab bhi jo kahi

Aaine tute hai aksh ae yaar, dga-mahobat, bewafai unme kahi

Chal rahi hai kishti, naam ae wfa, aetbaar ae yaar, dubta musafir jo tanha kahi

Dund rahi hai sahil, ufaan ae samandar, ufante jajbat, katal jujhte jazbato se kahi

Rachnakar Vikrant Rajliwal dwara likhit

Advertisements

Leave a Reply