नशा है फ़िज़ाओं में आज, बहFB_IMG_1510857536007की-बहकी सी सासे, कुछ-कुछ मदहोश सी है।
साथी है साथ में आज, उफ़ान ए धड़कन, अंजाम ए हक़ीक़त, हैरानी सी है।।

रास्ते है साथ में आज, तलाश ए हौसले, मंजिले कुछ-कुछ अंजान सी है।
जशन है साथ माहौल में आज, निसान ए उदासी, अब भी मेरे साथ सी है।।

आरज़ू है साथ मे आज, अक्स ए जुदाई, पहेलु में खुशियां, धड़कने फिर भी हैरान सी है।
अल्फ़ाज़ है साथ रूह में आज, ख़ामोश ये जुबां, कत्ल ए एहसास, कलम मेरी दम तोड़ने को है।।

कलम है हाथ मे आज, नासूर ए जख़्म, खून ए श्याही, फड़कती हर एक नब्ज़, गुम सी है।
यक़ीन है साथ साए में आज, उदास ये लम्हे, इंतज़ार अब भी सासो में, हर साया साथ, छोड़ने को हैं।।

रचनाकार एव लेखक लेखक विक्रान्त राजलीवाल द्वारा लिखित।

Katal ae Ahsaas!

Nsha hai fizaon me aaj, baheki-baheki si sase, kuch-kuch madhosh si hai.
Sathi hai sath me aaj, ufaan ae dharkan, anjaam ae hakikat, herani si hai.

Rastey hai sath me aaj, talash ae hoshley, manzile kuch-kuch anjan si hai.
Jashan hai sath mahool me aaj, nisan ae udasin, ab bhi mere sath si hai.

Arzoo hai sath me aaj, aksh ae judaai, phelo me khushiyan, dharkane fir bhi heeran si hai.
Alfaaz hai sath ruh me aaj, khamosh ye juban, katal ae ahsaas, kalam meri dum todne ko hai.

Kalam hai hatho me aaj, nasor ae jakham, khoon ae shyahi, fadkti har nawj, gum si hai.
Yakin hai sath saye me aaj, udaas ye lamhein, intezaar ab bhi sasoo me, har saya sath, chhodne ko hai.

Rachnakar ev lekhak Vikrant Rajliwal dwara likhit

Advertisements

Leave a Reply