जीवन की बाधाओं को अपने कदमो से कुचलने में एक अलग ही आनन्द प्राप्त होता है। यह अनुभव ईश्वर युगों युगों में किसी खास व्यक्ति को प्राप्त करता है।

हर बाधा एक पहाड़ नज़र आती है और हर बाधा रूपी पहाड़ को चूर चूर करने का एक अलग ही आंनद प्राप्त होता है। यह अनुभव ईश्वर युगों युगों में किसी खास व्यक्ति को प्राप्त कराता है।

रचनाकार एव लेखक विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

A different feeling is found in crushing the barriers of life from your own under foot. This experience attains a particular person in God-era era.

Every obstacle sees a mountain and a different way of shattering the mountain of every obstacle Only happiness is attained.This experience is available to God in the ages of a particular person.

Written by Composer and Athour Vikrant Rajliwal.FB_IMG_1513419425099

Advertisements

Leave a Reply