एक टूटी कलम, साए ज़ख्मो के साथ अब भी जो मेरे।
तड़प ए श्याही, बहता लहू रगों में साथ अब भी जो मेरे।।

तड़पती है तड़प, साथ तड़प अब भी रूह में कहि जो मेरे।
पुकारता है दर्द, साथ तन्हा अब भी सासो में कही जो मेरे।।

रचनाकार विक्रान्त राजलीवाल द्वारा लिखित।

Ek dard.

Ek tuti kalam, saae jakhmo ke sath ab bhi jo mere
Tadap ae shyahi, baheta lahu rago me sath ab bhi jo mere

Tadapti hai tadap, sath tadap ab bhi ruh me kahi jo mere
Pukarta hai dard, sath tanha ab bhi sason me kahin jo mere

Rachnakar Vikrant Rajliwal dwara likhit

 

 

Advertisements

Leave a Reply