रुक गए है जो लम्हे, ठहर गयी ये जिंदगी, टूट गया जो राही, जुड़ती अब किसी उम्मीद के साथ।
छूट गए है जो साथ, धुंधला गए जो अक्स, नजरो से छलकते, हर पैमानों के साथ।।

उड़ते हौसलो से एक उम्मीद, रुकी सासो से, छीलते जख़्म, हर जख्म नासूर है मेरे, घुटती हर उम्मीद के साथ।
एक निसान, दर्द ए ज़िन्दगी, दब गई जो चाहते, दम तोड़ते अक्षर, जलती किताब, टूटती अपनी कलम के साथ।।

एक पथ है अंधेरे से कायम, टूटे कदम, चल रहा एक राही,
हर कदम से दबाए है साए कई, उठे जो ज़हरीले काटो के साथ।
हर आह से मिला है जख़्म ए दिल, आईना ए हकीकत, लगा जो ख़ंजर जख्मो पर मेरे, मासूम अहसासों के साथ।।

क़लम तड़पती है मेरी, अश्क ए श्याही, हाल ए दिल करते है बयां, साए जिंदगी के, बैठे जो राही मेरी कब्र के साथ।
चल रही है सासे, बेरुखिया जो खुद से, चटका जो आईना ए दिल, जख़्म रूह पर मेरे, टूटी अपनी कलम के साथ।।

रचनाकार एव लेखक विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

Ahsaas ae zindagi.

Ruk gye hai jo lamhe, tha-her gayi ye zindagi, tut gya jo rahi, judti kisi ummid ke sath.
Chut gye hai jo sath, dhundhla gye jo aks, nazron se chalakte har pemane ke sath.

Uadte hoslo se ek ummid, ruki sason se chilte jkham, har jakham nasur hai mere, ghutti har ummid ke sath.
Ek nisan dard ae zindagi, dab gayi jo chahte, dm todte aksr, jalti kitab, tuttie apni kalam ke sath.

Ek path hai andhere se kayam, tute kadam, chal rha ek rahi, har kadam se dabaae hai saae kai, uathe jo jaherile kato ke sath.
Har aah se mila hai jakham ae dil, aaina ae hakikat, laga jo khanjar jakhamo par mere, masum ahsasao ke sath.

Kalam tadapti hai meri, ashak ae shyahi, haal ae dil karte hai bayan, saae zindagi ke bethe jo rahi meri kabar ke sath.
Chal rahi hai sase, berukhiya jo khud se, chataka jo ainaa ae dil, jakham ruh par mere, tutie apani kalam ke sath.

Rachnakar ev lekhak Vikrant Rajliwal dwara likhit.
Writer & Poet Vikrant Rajliwal-

Advertisements

Leave a Reply