रात है चाँद से, धड़कनो में एक तन्हाई।
छुप गया है, सनम मेरा, काले इन बदलो में कही।।

दर्द ए दिल, दे रहा पुकार, सुनने वाला कोई नही।
खता जो हो गयी यार से, माफ़ करने वाला कोई नही।।

कत्ल दीवाने का हुस्न ने, बहुत ही मासूमियत से किया।
बिना खंज़र, जख्म दिल-धड़कनो, नज़रो को मदहोश अपनी, फ़ेर कर दिया।।

असूल ए महोबत, वफ़ा के सिखलाए नही जाते।
वफ़ा ए महोबत, सनम से है, बिना मतलब हक उस पर नही जताते।।

महोबत है ऐतबार ए सनम, जान भी जिस पर
निसार कर देगा दीवाना।

रुसवाई है बगावत एक जिस मे, बन्द लबो को भी
सी देगा दीवाना।।

रचनाकार एव लेखक विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

🎻Tanha-Mahobat.

Raat hai chand se, dhadkano me ek tanhaayi

Chup gya hai sanam mera, kaale in badalo me kahi

Dard ae dil, de rha pukaar, sunne wala koi nahi

Khata jo ho gyi, yaar se, maaf karne wala koi nahi

Katal deewane ka husan ne, bhut hi masumiyat se kiya

Bin khanjar, jakham dil-dharkano, najaro ko madhosh apani, feer kar diya

Asul ae mahobat, wafa ke sikhlaae nahi jate,

Wafa ae mahobat, sanam se hai, bina matalab uas par hak nahi jatate

Mahobat hai aetbaar ae sanam, jaan bhi jis par, nisaar kar dega deewana

Ruswaai hai bagawat jisme, band labo ko bhi see dega deewana

Rachnakar ev lekhak Vikrant Rajliwal dwara likhit

Writer & Poet Vikrant Rajliwal

Advertisements

Leave a Reply