Social Work At Consulting Of Your Addiction & Life’s-Recovry

Free of cost at Social Work

Some short introduction about my self and my Recovery.

आज मैं विक्रान्त राजलीवाल इस्वर के द्वारा बनाए गए आप सभी प्यारे व्यक्तिओ से अपने जीवन की कुछ एक हक़ीक़त सांझा करने जा रहा हु। उम्मीद है आप मेरे अहसासों को समझ पाएंगे।

आज बहुत से जानने वाले मुझ को देख कर हैरान होते है कि यह वही है जिसे कभी 19 महीने तक जबरन पुनर्वासकेन्द्र में रखना पड़ा था?

जिसका कभी मानसिक चिकित्सालय में इलाज के लिए विचार विमर्श के लिए ले जाया जाता था। और जो कुछ समय पूर्व तक अनपढ़ था-गवार था?

आज वही शख्स सब व्यसनों से दूर एक तन्दरुस्त सेहत भरी ज़िन्दगी जीता हुआ। अनपढ़ से ग्रेजुएट हुआ। और एक मानवतापूर्ण भावो से परिपूर्ण अपनी कविताओं की किताब कैसे रची या लिख दी?

तो मैं उन सभी महानुभवों से इतना ही कहना चाहूंगा कि

करे हिम्मत अगर इंसान तो क्या हो नही सकता।
यहाँ बियाबान में गुलाब खिलते देखे है मैंने।

आज अपने ब्लॉग साइट्स पर मैंने 260+ रचनाएँ जिनमे से 97% नज़्म शायरी ओर कविताओ के रूप में है। आप सब दिल अज़ीज़ पाठको के लिए लिख चुका हूं।

और यही दुआ करता हु अपने ईष्वर से, ख़ुदा से कि यह सिलसिला अब कभी थमने न पाए।

और इस बियाबान जीवन मे यह मनमोहक पुष्प ऐसे ही खिलते चले जाए।

एक उम्मीद!

अपनी जीवन से प्यार, अपने व्यक्तिव का निखार।
जरूरी है जानना हमको, अपने प्राकृतिक अधिकार।।

निराशा जीवन से जीवन के प्रति, कठोर है खुद से खुद का यह निर्दयी अत्याचार।
आशा जीवन से जीवन के प्रति, उड़ान है खुद से खुद की, उन्मुक्त ये अपनी उड़ान।।

साथ सकूँ का सकूँ से, बाकी है सफर ए जिंदगी, ए जिंदगी अभी, सकूँ जिंदगी का जिंदगी से, जिंदगी को जीने के साथ।
उठा कदम विशवास से, बाकी है नजारा ए मंजिलो का अभी, महकेंगी फ़िज़ाए, मिटा देंगे कदम, निसान ए जख़्म, उठे जो साथ सच्चाई के साथ।।

रचनाकार एव लेखक विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

शुक्रिया।

रचनाकार विक्रांत राजलीवाल।

Since 2004, I have been treating addicts as well as junkies. I myself was a drunken person. But with God’s grace, today we are completely healthy. And today is a respected person of the society.

I do not treat any medicines. As such, till date no such medication has been made that you or any addicts can be free from intoxication. I use my experience and strengthen my process by using a few rugs.

Thank you.

Add: A-47 harit vihar Burari Delhi.

Mobile no:91+8130675543.

मैं 2004 से नशे के आदि नशेड़ियों का इलाज कर रहा हु। मैं खुद एक नशे से बीमार व्यक्ति था। परंतु ईश्वर की कृपया से आज पूर्णता स्वस्थ्य हु। और आज समाज का एक प्रतिष्ठित व्यक्ति हु।

मैं कोई दवाई से इलाज नही करता। क्यों कि आज तक ऐसी कोई भी ऐसी दवा नही बनी जो आपको या किसी भी नशेड़ी को नशा से मुक्त कर सके। मैं अपने तजुर्बे का इस्तेमाल कर के और कुछ एक आसनों के द्वारा अपनी प्रक्रिया को मजबूती प्रदान करता हु।

धन्यवाद।

सम्पर्क सूत्र: A-47 harit vihar Burari Delhi.110084

मोबाइल नं: 91+8130675543FB_IMG_1512305066838

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s