🕯 व्यसन या नशा चाहे किसी भी प्रकार का क्यों न हो। उसके आकर्षण से बच पाना शायद हर किसी के लिए मुमकिन न हो। या इस अनोखे आकर्षण से शायद ही कोई व्यक्ति आने सम्पूर्ण जीवन काल मे अछूता रह पाया हूं।

अगर में अपने व्यक्तिव के विषय से सम्बंधित इस अति सम्वेदनशील विषय के बारे में बात करूं तो, कहने को तो मै इस बेहद दिलचसब एव भयंकर विषय के बारे मैं इतना कुछ कह और लिख सकता हु की निरन्तर कहते हुए या लिखते हुए भी मेरा यह सम्पूर्ण जीवन भी अपर्याप्त प्रतीत साबित हो जाएगा। फिर भी कम से कम शब्दों मैं इतना ही कहना चाहूंगा कि… व्यसन करने का निर्णय मेरा स्वयं का था। तो व्यसन से मुक्ति का निर्णय भी स्वयं मेरा ही हो सकता है। इसके लिए मैं किसी भी व्यक्ति या उसके व्यक्तिव को दोषी नही ठहरा सकता।

👉 व्यसन करने की दिशा की ओर कुछ व्यक्ति चाहे वह मेरे रक्त से सम्बन्धित हो या भाव से, आकर्षित कर सकते है। परंतु व्यसन कि तरफ बढ़ाया गया वह प्रथम हाथ या कदम स्वयं व्यसन करने की मेरी एक चाह की ही उपज थी।

एव

👉 व्यसन से मुक्ति की दिशा की ओर कुछ व्यक्ति चाहे वह मेरे रक्त से सम्बंधित हो या भाव से, ज्ञान-जिज्ञासा उतपन कर सकते है। परन्तु व्यसन से मुक्ति की ओर बढ़ाया गया प्रथम कदम स्वयं मेरे जीवन के प्रति जीवन जीवन की एक चाह ही है।

एव

👉 हम खुद अपने व्यसन की चाह की दिशा की ओर आकर्षित करने वाले व्यक्ति को अपने व्यसन की लत का दोषी मान या ठहरा सकते है

एव

हम खुद अपने व्यसन से मुक्ति की दिशा की ओर ज्ञान-जिज्ञासा उतपन करने वाले व्यक्ति को अपने व्यसन से मुक्ति का कारण मान या ठहरा सकते है।

🕯

क्या उपयुक्त दोनों कारण सही है।

या

उपयुक्त दोनों कारण गलत है।

या

दूसरा सही है पहला गलत है।

या

पहला सही है दूसरा गलत है।

या

इनमे से कोई भी सही नही है।

👉 आपका का उत्तर कुछ भी हो सकता है। परंतु सबसे अहम विषय यह है कि दोनों ही कारणों का एक दूसरे गहन सम्बन्ध है। या वह पूर्ण रूप से एक दूसरे से सम्बंधित है।

निर्णय स्वयं आपका ही होगा कि आपके ज्ञान की सीमा कहा तक है या सरल शब्दों में कहो तो यह निर्णय स्वयं आपको ही तय करना होगा कि आप कितना जानते है या जानना चाहते है।

धन्यवाद।

स्वतन्त्र लेखक एव विचारक विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित एक सत्य जिसका सम्बन्ध उनके जीवन के अहसासों से सम्बंधित है।

30/03/2018 at 9:27 pmInShot_20171213_154021092

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s