Writer & Poet Vikrant Rajliwal

Poetry, Shayari & Article's by Vikrant Rajliwal

Apr 18, 2018
Vikrant Rajliwal (विक्रांत राजलीवाल) -स्वतन्त्र लेखक-

no comments

प्रकृति। (Nature)

प्रकृति।

जब जब इस पृथ्वी के ऊपर पाप-व्यभिचार का बोझ बढ़ा है तब तब इस इस पृथ्वी पर हर दिशा से प्रलय हुआ है। इतिहास साक्षी है हर पाप-व्यभिचार, कमजोर एव बेबसों के शोषण का उत्तर प्रकृति ने जरूर दिया है। प्रकृति विनाश नही चाहती प्रकृति तो प्रगती चाहती है। जीवन व्यवहार से पूर्ण एक उन्नत विकास चाहती है। परंतु हर अत्याचार का चाहे वह कहि भी किसी से भी क्यों न हुआ हो प्रकति ने उसका दंड सुनिचित किया जा चुका है। क्योंकि इस ब्रह्मांड के प्रत्येक जीव एव निर्जीव प्रकृति कि हि देन है और उसका विकास एव विनाश भी प्रकति ही सुनिचित करेगी हम मनुष्य नही।

हम में से शायद बहुत से मनुष्य एव विज्ञान से सम्बंधित महानुभव इस तर्क को स्वीकार न कर सके परन्तु यह अटूट सत्य है कि प्रकृति ही जीवन है उसमें भी सोचने समझने की एव महसूस करने की क्षमता होती है। ऊर्जा चाहे वह सकरात्मक हो या नकरात्मक प्रकृति से अछूती नही रह सकती। एव हर सकरात्मक ऊर्जा जो की नेक कार्यो के द्वारा उपन्न होती है का परिणाम सकरात्मक विकास एव उन्नति होता है। परंतु नकारात्म ऊर्जा जो कि पाप एव व्यभिचार के कुकृत्यों से उत्तपन होती है का परिणाम विनाश एव विनाश से ही सम्बन्धित होता है।

इसलिए जाग जाओ ए सोए मनुष्यों, बाकी है जीवन अभि भी शेष आशा की एक जोत प्रकृति।
कर दो त्याग कुकृत्यों के हर दुर्भाव, ह्रदय से अपने कर लो अब तुम साथ हमारे एक आत्म-पच्यातप।।

स्वतँत्र लेखक विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

18/04/2018 at 12:56 pm

Nature. (Translated)

When the burden of sin-adultery has increased on this earth, then there has been aversion from every direction on this earth. History is witnessing the answer to the exploitation of every sin-infidelity, weak and helpless. Nature does not want destruction, Nature wants progress. Life seeks an advanced development full of life. But every torture, whether it has been done to anyone or not, Nature has already been punished. Because every creature and non-living nature of this universe that is given and its development and destruction will also make the process clear. Not we humans.

Perhaps many of us can not accept this argument from human and science, but this is the inevitable truth that nature is the only life, there is also the ability to think and feel to think. Energy can not remain untouched by whether it is positive or negative nature. And every positive energy that is nullified by good deeds results in positive development and progress. But the negative energy that gets affected by the sins of adultery and adultery is related to destruction and destruction.

Therefore, awake and sleep, human beings, the rest is life and also a hope nature of the remaining hope.
Do not give up all the maladies of the doctrines, take heart from your heart, now with you one self-repentance.

Written by independent writer Vikrant Rajliwal.

18/04/2018 at 12:56 pmShayari On My Photo_1524035047

Leave a Reply

Required fields are marked *.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: