नमस्कार प्रिय पाठकों एव मित्रों,

आप सब से एक नर्म निवेFB_IMG_1519648604341~2दन है आप सभी सहित्य एव काव्य-नज़्म प्रेमी अधिक से अधिक मात्रा में मेरे ब्लॉग साइट की यात्रा करें एव अपने उन मित्रो एव परिजनों को भी मेरे ब्लॉग साइट का पता बताए-सांझा करे जो आज भी कुछ अच्छा पढ़ना चाहते है। जिससे उनको को भी मेरे ब्लॉग्स, काव्य-नज़्म एव लेख पढ़ पाने का एव मेरी रचनाओ का आनन्द प्राप्त करने का अवसर प्राप्त हो सके।

मेरी ब्लॉग साइट पर मेरे द्वारा  लिखी गयी लगभग कुल रचनाए इस प्रकार है कुल नज़्म/शायरी जो लगभग 270+ है में से लगभग 89+ विस्तृत नज़्म(बड़ीहै) है एव 30 विस्तृत कविताए एव बहुत सी लघु कविताए। साथ ही दर्जनों भर विस्तृत लेख एव कुछ लघु लेख भी पढ़ सकते है। इसके साथ ही मेरे द्वारा लिखा गया एक गाना एव एक व्यंग्य किस्सा भी पढ़ पाएंगे। साथ ही मित्रो आपको मेरी ब्लॉग साइट पर मेरी बहुत सी नज़्म-कविताओ एव लेखों का अंग्रेजी में अनुवाद भी पढ़ने को प्राप्त है।

मेरी ब्लॉग साइट का पता नीचे अंकित है।

1: vikrantrajliwal.wordpress.com

&

2: vikrantrajliwal.blogspot.com

यह सब पढ़ने और समझने के लिए आप सब का अपने ह्रदय से आभारी आपका अपना स्वतँत्र लेखक विक्रांत राजलीवाल।🖋

 

Hello dear readers and friends,(Translated)

All of you have a soft request that all of you and your poetic and poet-savvy lovers travel to my blog site in greater detail and tell your friends and family also the address of my blog site, Who still want to read some good today. So that they can also send them to my blogs, Obtain opportunity to read my blogs, poetry-nzam and enjoy the joy of my work.

Almost all the compositions written by me on my blog site are as follows: Total Najm / Shayari, which is approximately 270+, is about 89+ wide nasam (big) and 30 detailed poems and many short poems. Also read dozens of detailed articles and some short articles. Along with this I will also read a song written by me and a satire. At the same time, friends also find you read many of my poems and articles in English on my blog site.

The address of my blog site is displayed below.

1: vikrantrajliwal.wordpress.com

&

2: vikrantrajliwal.blogspot.com

Thank you all for your reading and understanding of all this, your own Author Athour Vikrant Rajliwal.🖋

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s