🍂करें जो तू हिम्मत तो जहां के हर कुकृत्यों को रोक सकता है ज्यादा नही तो एक सकारात्मक बदलाव तो ला ही सकता है।

बशर्त बदलाव चाहे सकरात्मक ही क्यों न हो जनाब पहले खुद को हर बदलाव सकरात्मक के हर तीव्र प्रहार से गुजारना पड़ता है।

रचनाकार विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।✒

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s