🕊 15 अगस्त स्वतन्त्रा दिवस और 26 जनवरी गणतंत्र दिवस, जिस दिन, जिस ऐतिहासिक तिथि पर, हम सब भारतीयों को, भारतवासियों को, प्रत्येक वर्ष अपनी स्वतन्त्रा एव स्वाभिमान पर एक बेहद गर्व का अनुभव महसूस होता हैं। मित्रों यह आजादी का यह स्वाभिमान का दिन हमे किसी से कोई उपहार या किसी से कोई दान के स्वरूप में प्राप्त नही हुआ।

बल्कि ये जीत है उन उम्मीदों की, उन भारत के वीर-शहिदों की, उन महान व्यक्तित्व के नेताओ और आम-जनमानस के बलिदानों कि जिन्होंने निर्दयी-अत्याचारी अंग्रेजो और स्वार्थी-देश द्रोहियो के समक्ष अपने मजबूत व्यक्तित्व का परिचय देते हुए अपने प्राणों का बलिदान तक दे देने में किंचित मात्र भी संकोच नही किया और अपने जीवन का बलिदान तक देकर भी हम भारतीयों में एक आत्मविश्वाश की एक मजबूत भावना को उत्पन्न किया है। और एक भारतीय होने के नाते इस दिन के उपलक्ष्य में ये हम सब का कर्तव्य बनता हैं कि हम सब भी उन महान विभूतियों को अपने ह्रदय से, अपनी अंतर-आत्मा से याद करते हुए उनके चरणों में शत-शत अपना प्रणाम अर्पित करें।

🇮🇳और ये संकल्प धारण करे कि हम सब भारतीय अब आपसी रंजिस को दर-किनार करते हुए एकता के मजबूत सूत्र में बंद जाये। जिस-से कोई भी बाहरी दुश्मन हमारी एकता और आपसी भाईचारे की मजबूत बुनियाद को भेद न सके।

यही एक मात्र सच्ची और देशभगति से परिपूर्ण, उन महान व्यक्तित्वो की अमर आत्मा के लिए, उनके इस आजाद भारतवर्ष के उन्नति एव विकास के एक अनमोल स्वपन के लिए, जिसके लिए उन्होंने अपने प्राणों तक को निछावर कर दिया था। हम सब भारतीयों की तरफ से एक छोटी सी मगर एक सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

धन्यवाद…🇮🇳जय हिंद।

आपका अपना
रचनाकार एव कवि विक्रांत राजलीवाल। (repost)20180814_201139.jpg

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s