💥नशा! जी हा जनाब नशा। नशा आज एक गम्भीर समस्या के रूप में हमारे सभ्य समाज को चारों खानों से बीमार करने पे उतारू हैं। नशे का चाहे कोई भी प्रकार क्यों न हो, नशे का हर प्रकार से सेेेवन हर मनुुष्य के लिए अति हानीकारक सिद्ध होता है और हुआ है। और यह एक अति संवेदनशील और जटिल बीमारी के रूप में उभर के सामने आया है।

इस मानसिक बीमारी के कारण न जाने कितने ही बसे बसाए परिवार उजड़ चुके हैं इस बात का अंदाजा भी लगा पाना अत्यंत कठिन हैं। और न जाने कितने परिवार ऐसे भी हैं जो शायद बसने से पहले ही उजड़ गये! नशे के आकर्षण से शायद ही कोई व्यक्ति अपने सम्पुर्ण जीवन में बच पाया हो। ये वो आकर्षण हैं जिसके आगे बाकी के सभी आकर्षण फीके ज्ञान पड़ते हैं।

परन्तु यह भी एक सत्य है कि ये नशे का आकर्षण बाकी सभी आकर्षणों में सबसे घातक साबित हुआ हैं। नशे के आकर्षण या नशे के आदि व्यक्ति का तो सम्पूर्ण जीवन दुःख-तकलीफ, कंगाली और मानसिक-यात्ना में व्यतीत होता ही हैं। परन्तु वह व्यक्ति अपने साथ में अपने परिवार को भी मानसिक और शारीरिक यातना का शिकार बना देता हैं।

इसलिए इस बीमारी का पूर्ण रूप से इलाज अति आवश्यक हैं और यह आज केIMG_20180715_171441_032 सभ्य समाज की एक महत्वपूर्ण मांग भी हैं। इसलिए हमारे सभ्य समाज के प्रत्येक सामाजिक व्यक्ति का अपने सभ्य समाज के प्रति यह कर्तव्य हैं कि वह अपने अपने स्तर पर इस गम्भीर बीमारी से लड़ने में अपना महत्वपूर्ण सहयोग प्रदान करे।

अधिक जानकारी के लिए आप मुझ को मेरे e mail पते पर भी सम्पर्क कर सकते है। मेरा e mail पता नीचे अंकित है।👇

vikrant.rajliwala@gmail.com

 

धन्यवाद।

✍आपका अपना रचनाकार विक्रांत राजलीवाल। (रिकवरी एडिट)

(Repost)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s