एक आभार एक भाव।

ॐ: आज के दिन मैं यानी कि रचनाकार एव लेखक विक्रांत राजलीवाल सोशल मीडिया के इस महान मंच से उन सभी महानुभवों का अपने ह्रदय से आभार व्यक्त करना चाहूंगा जिन्होंने जीवन के हर मोड़ पर, इस तुच्छ से जीवन के हर पल-हर क्षण मुझ को मेरे वास्तविक व्यक्तित्व का दर्पण अपने अपने नजरिए से दिखाने की कोशिश करी और मेरी आत्मा को अपना वास्तविक व्यक्तिव देख पाने में अपना अपना अनमोल योगदान अदा किया।

धन्यवाद।

स्वतन्त्र रचनाकार, लेखक, कवि एव विचारक विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

ॐ:

Today, I will thank all those people who have tried to show me the real mirror of my real personality from my own perspective every moment. And make my soul worthy to see my true identity.

Written by independent writer & thinker Vikrant Rajliwal.FB_IMG_1505927842291.jpg

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s