Writer & Poet Vikrant Rajliwal

Poetry, Shayari & Article's by Vikrant Rajliwal

Sep 28, 2018
Vikrant Rajliwal (विक्रांत राजलीवाल) -स्वतन्त्र लेखक-

no comments

🌹 सितमगर हसीना।

अक्सर सितमगर एक हसीना का, दीदार किया करता हूँ।

आती है पर जब वो सामने, तो मुह फेर लिया करता हूँ।।

देखना तो चाहता हूँ उसको मैं जी भर, मगर न जाने उसके हाव भाव से, क्यों डर जाता हूँ।।।

उस सितमगर हसीना की शख्सियत भी कमाल लगती है।

चेहरे पर उसके हमेशा आग ग़ुसे की दिखती है।।

न जानें चमक से उस आग की क्यों ठिठर जाता हूँ।

ख्यालो में मगर, हाल ए दिल उससे, अक्सर बतियाता हूँ।।

उस समय मुझ में भी कुछ हिम्मत जाग जाती है।

सुनाने को हल-दिल, तबियत मेरी भी मचल जाती है।।

फिर देख के हाव-भाव वो चहरे के उसके, दम तोड़ महोबत मेरी जाती है।।।

उसकी उस आग से चेहरे कि ए दिल क्यों जल जाता हूँ।

करता हूँ महोबत, बेहिंतिया जब उससे, हाल ए दिल ये उससे अपना, क्यों कह नही पाता हूँ।।

चाल हर बार क्या जहरीली सी कोई, चल जाती है वो। मिलती है अक्सर तन्हाई में तो घण्टों मुझ से बतियाती हैं वो।।

आती है ए वक़्त, पर सामने जब वो सब के, तो मुझको भूल जाती हैं।

जख्मी ये दिल इस तरह, सरेआम वो मेरा कर जाती है।।

दिखा के चहरे की आग वो अपने, इस दिल पर जख्म

दे जाती है, इस दिल पर जख्म दे जाती है…इस दिल पर जख्म दे जाती है।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।
29/09/2018 (अति लघु से लघु तंकन त्रुटि सुधार उपरांत पुनः प्रकाशित। / Short reproduction from minor to small tuning error correction)

Leave a Reply

Required fields are marked *.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: