हमे है खबर के आपको भी है ख़बर, के खबर है जो हर सितम ए इश्क़ में आपके मुस्कुरा जाने की।

वख्त है वख्त के साथ फिर भी बेवख्त है जो वख्त की हर एक सौगात ए इश्क, अधूरी सी जो महोबत की हर दास्तां।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।
(Republish at vikrantrajliwal.com)FB_IMG_1539591802307.jpg

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s