Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal Creation's -स्वतंत्र लेखक-

काव्य-नज़्म, ग़ज़ल-गीत, व्यंग्य-किस्से, नाटक-कहानी-विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।-स्वतंत्र लेखक-

Oct 22, 2018
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

💦मासूम परिंदा।

 

🙏नमस्कार मित्रो प्रस्तुत है आप सब के समक्ष प्रस्तुत है उड़ान का अगला अंतिम काव्य भाग मासूम परिंदा।

आपका अधिक समय न लेते हुए यहाँ केवल इतना ही कहना चाहूंगा कि हो सके तो मित्रों कभी भी किसी बेजुबां को किसी आजादी के दीवाने को कैद करने कि कोई भी कोशिश न करना।

ऐसा क्यों? इस सवाल का जवाब शायद आपको मेरे इस काव्य को सुन कर एहसास हो जाए!🕊

धन्यवाद।

विक्रांत राजलीवाल।

यूट्यूब वीडियो यूआरएल है👉 https://youtu.be/VMKDHqLBXR0 💖

Leave a Reply

Required fields are marked *.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: