Writer & Poet Vikrant Rajliwal

Poetry, Shayari & Article's by Vikrant Rajliwal

Nov 10, 2018
Vikrant Rajliwal (विक्रांत राजलीवाल) -स्वतन्त्र लेखक-

no comments

🎻 गुलिस्तां

ख्वाबो में अब भी मेरे, एक चेहरा नज़र आता है।
उजाड़ है गुलिस्तां मेरा, फिर न जाने क्यों,
खिला वहाँ एक गुलाब नज़र आता है।।

जब भी देखता हूं आईना ए महोबत, चेहरा ए सनम,
न जाने क्यों नज़र उसमे आता है।

हकीकत कहु जा अफ़साना कोई, तन्हाई में हमेशा से वो,
बिछुड़ा सनम, याद बहुत आता है।।💞

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।
(Republish at vikrantrajliwal.com)

Leave a Reply

Required fields are marked *.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: