न कर सितम, कर गए सितम,
रहेम ए महोबत, दीवाने पे तेरे।

ये सुलगती फिजाएं, आलम ए जुदाई,
न कर दे कत्ल, दीवाने का तेरे।।

सफ़र ए महोबत, रुसवाई हर पल,
दाग ए बेवफ़ाई, बेहूदा सीने पे मेरे।

दम तोड़ती आरज़ू, दीदार ए सनम,
हो गया जो गुम, नज़र नज़रो से मेरे।।

रचनाकार विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

(Republish)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s