इस संसार मै जब कुछ अपने ही आपकी छोटी छोटी परन्तु अति महवपूर्ण विजय से एक ईर्ष्या का भाव रखते हुए आपके जीवन मे अपने तुच्छ विचारो एव व्यवहारों के द्वारा विष घोलने का प्रयत्न करें?

आप उन समस्त व्यक्तियो से एक उचित दूरी बनाते हुए। अपने नेक कार्यो के द्वारा अपने विजय रथ को सावधानीपूर्वक आगे की ओर बढ़ाते हुए, अपनी अनन्त कालीन विजय के एक कदम और समीप पहुचने का एक प्रयत्न कर सकते है।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

27/11/2018 at 22:15 pm

Advertisements

Leave a Reply