Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal Creation's -स्वतंत्र लेखक-

काव्य-नज़्म, ग़ज़ल-गीत, व्यंग्य-किस्से, नाटक-कहानी-विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।-स्वतंत्र लेखक-

Dec 1, 2018
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

💦 एक दर्द।

चिर कर जख़्मी दिल उफ़नती धड़कनों से अपना,
देखता है ख़्वाब कोई फिर से वो सुहाना।

ढूंढता है अक्स ए यार सुनी नज़रो से अपना,
अब भी वो सदियों पुराना।।

आया न पैगाम ए यार, बैठा है सुनी चौखट पर उनकी,
देख रहा है राह ए महोबत, अब भी एक अर्से से दीवाना।।।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।
(पुनः प्रकाशित)CollageMaker_20181026_085522327

Leave a Reply

Required fields are marked *.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: