वास्तविक ज्ञान वह जो दिन प्रतिदिन सकारात्मकता के साथ बढ़ता जाए। एव आपके ज्ञान के स्तर से आपके व्यक्तिव में एक सकारात्मक बदलाव उतपन कर दे।

वास्तविक धर्म वह जो स्थिर रहता है। बस आपके ज्ञान के स्तर के हिसाब से आपकी आस्था बदल जाती है।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

13/09/2018 at 16:35 pm

(पुनः प्रकाशित)CollageMaker_20180722_193819056

Advertisements

Leave a Reply