नमस्कार मित्रों,

मित्रों जेसा की आपको मैने सूचित किया था कि मेरी एक अप्रकाशित पुस्तक, एक नज़्म पुस्तक, एक अनकही महोबत की एक दर्द भरी अधूरी महोबत की दस्ताने है।

जिसको मैं अपने साधारण से स्वर के साथ जल्द ही अपने यूट्यूब चैनल kavi Vikrant Rajliwal पर आप सभी प्रियजनों के साथ साँझा करने का विचार कर रहा हु।

हो सकता है अब शायद आपको जल्द ही मेरी वह नज़्म रूपी अधूरी महोबत की दर्द भरी दस्ताने मेरे यूट्यूब चैनल Kavi Vikrant Rajliwal पर मेरे साधारण से स्वरों के साथ सुनने को प्राप्त हो जाए।

अपना प्रेम और आशीर्वाद अपने रचनाकार, कवि एव शायर मित्र विक्रांत राजलीवाल पर यू ही बनाए रखे।

धन्यवाद।

विक्रांत राजलीवाल।

मेरे यूट्यूब चैनल का यूआरएल पता नीचे अंकित है।

👉 https://www.youtube.com/channel/UCs02SBNIYobdmY6Jeq0n73A 🙏💖💖

Advertisements

Leave a Reply