Author, Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal

Poetry, Shayari, Gazal, Satire, drama & Articles Written by Vikrant Rajliwal

January 26, 2019
Author, Writer, Poet And Dramatist Vikrant Rajliwal

no comments

💥एहसास/ 💥Feelings (Translated)

ईश्वर ने हमे यह मनुष्य जीवन प्रदान किया है।

अन्य मनुष्यो के उद्धार एव उनती के लिए।

जिसे हमें अपने स्वार्थरहित कर्मो के द्वारा साकार करना ही होगा।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

God has given us this human life.

For the salvation of other people and for those people.

Which we have to realize through our selfless deeds.

Written by Vikrant Rajliwal
(Translated)

💥 ह्रदय के सच्चे भाव से किसी मजबूर एव बेबस के लिए, करि गई आपकी एक आत्मशांति की प्रार्थना उसे एव आपको एक स्थाई आत्मशांति प्रदान करने के लिए प्राप्त शक्ति रखती है।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

💥 A prayer of one of your selfishness done for the helplessness and helplessness of the heart, gives him the power to receive and give you a lasting peace of mind.

Written by Vikrant Rajliwal
(Translated)

स्वम् के वास्तविक व्यक्तिव को स्वीकार करने की क्षमता जिस भी दिन हममें आ जाती है सत्य है उसी क्षण हमारे व्यक्तित्व में
एक दिव्य सकारात्मक परिवर्तन सहज ही उतपन्न हो जाता है।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

The ability to accept the real person of itself, whatever day comes in us, is true, in our personality
A divine positive change is easily earned.

Written by Vikrant Rajliwal
(Translated)

आज मैं विक्रांत राजलीवाल अपने सच्चे ह्रदय से उन समस्त व्यक्तियो के लिए एक आत्मशांति की प्रार्थना करता हु जो आज भी किसी न किसी हानिकारक व्यसनों के आदि है। ईश्वर उन्हें आज एक सुखभरी चैन की निंद्रा प्रदान करे। जिससे वह नए दिवस का आरंभ एक जोश एव उत्साह के साथ कर सकें।

इसके साथ ही मैं उनके समस्त परिजनों के लिए भी एक आत्मशांति की प्रार्थना करता हु। ईश्वर उन्हें भी एक सुखभरी चैन की निंद्रा प्रदान करे। जिससे वह भी नए दिवस का आरंभ एक जोश एव उत्साह के साथ कर सके।

इसके साथ ही मैं अपने समस्त परिजनों एव प्रिय पाठकों के लिए भी एक आत्मशांति की प्रार्थना करता हु। ईश्वर आप उन्हें भी एक सुखभरी चैन की निंद्रा प्रदान करे। जिससे वह भी नए दिवस का आरंभ एक जोश एव उत्साह के साथ कर सके।

हे ईश्वर मुझे भी एक सुखभरी चैन की निंद्रा प्रदान करना जिससे मैं भी नए दिवस का आरंभ एक जोश एक उत्साह के साथ कर सको।

हे ईश्वर मेरी यह पवित्र प्रार्थना स्वीकार करना।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

Today, I pray Vikrant Rajliwal with his true heart, pray for a peace of mind for all those people who still have some harmful addictions etc. God bless him today with a sense of luxury. From which he can start the new day with a zeal and enthusiasm.

Along with this, I also pray for a peace of peace for all his family members. God also gave them a sense of happiness and happiness. So that he could start the new day with a zeal and enthusiasm.

Along with that, I also pray for a peace of peace for all my family and dear readers. God, you give them the sleep of a happy soul. So that he could start the new day with a zeal and enthusiasm.

O God, give me a sense of happiness and happiness, so that I too can start the new day with an enthusiasm.

O God, accept this my holy prayer.

Written by Vikrant Rajliwal

(Translated)

हर रात्रि निंद्रा लेने से पूर्व एक बार अपने इष्टदेव उस परम्परमेश्वर को आप अपने ह्रदय से एक धन्यवाद कर सकते है।

जिसने आज के दिन प्रत्येक क्षण आप पर अपनी कृप्या दृष्टि बनाई रखी।

एव आपके अनमोल जीवन का एक और दिवस अच्छे से व्यतीत करने में आपको आत्मबल प्रदान किया।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

Before taking your sleep every night, you can thank God, your God, with your heart once a day.

Who has kept his eye on you every moment on this day.

And you have given self-realization to spend a great day of your precious life well.

Written by Vikrant Rajliwal
(Translated)

💥 सत्य है।

मनुष्य जीवन की प्रत्येक सुबह ईश्वर का एक वरदान होती है।

प्रत्येक नवीन सुबह आपके जीवन मे एक नवीन ताज़गी का एक पवित्र जीवन ऊर्जा का संचार सहज ही कर देती है।

परन्तु यह सब तभी संभव हो पाता है जब आप अपने प्रति, अपने उज्वल व्यक्तिव के प्रति एव अपने आस पास के पवित्र वातावरण के प्रति हर प्रकार के कुविचार, दुष्भाव एव मलिन मानसिक विकारों (नकारात्मक विचारों) रहित एक सच्चे और पवित्र ह्रदय से स्वम् को अपनी अंतरात्मा को अपने इष्ट की असीम कृप्या में, उसकी ममतामई छत्रछाया में सहज ही सपुर्द्ध कर देते है।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

💥 Its true.

Every day of human life is a boon of God.

Every new morning, a holy life of an innovative freshness in your life makes it easy to communicate energy.

But all this is possible only when you have a true and sacred heart without any kind of badness, bad habits and sophisticated mental disorders (negative thoughts) towards yourself, your bright person and the sacred environment around you. In the infinite grace of his favors, in his please motherhood, he instantly acquires of itself.

Written by Vikrant Rajliwal

(Translated)

जारी…

Continue with next…

Leave a Reply

Required fields are marked *.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: