भाषा! एक सभ्य भाषा की मर्यादा आज के सभ्य समाज की सबसे अहम आवश्यता है।

जिस भी दिन हमारे सभ्य समाज से सभ्य व्यक्तियों द्वारा सभ्य भाषा का पूर्णता हनन कर दिया जाएगा। सत्य है उसी क्षण इस संसार से हर प्रकार की सभ्य सभ्यता का स्वम् ही पतन हो जाएगा।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।
28/01/2019 at 08:12 am

Advertisements

Leave a Reply