कल कश्मीर के पुलवामा हमले में किस तरह 200 किलो बारूद एक आतंकी सरेआम ले कर देश के मान सम्मान के प्रतीक हमारे वीर जवानों तक पहुच जाता है। और मेरे देश के वीर जवानों को शहीद कर देता है।

यह अपने आप मे अत्यंत भयावह है। अगर देश के सियासतदारों एव सुरक्षा एजेंसियों ने अब भी अपनी सुरक्षात्मक प्रणाली एव कायवाही में कुछ सकारात्मक परिवर्तन करते हुए, ठोस एव निर्णयात्मक निर्णय नही लिए तो भविष्य में भी हमे स्वम् अपनी ही कमजोरियों एव लापरवाहियों की कीमत स्वम् अपने ही वीर जवानों की शहादत से ही चुकानी पड़ सकती है।।

जय हिंद।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित

15/02/2019 at 07:48am

Advertisements

Leave a Reply