ज़िद है उन्हें क़त्ल करने की हमारे और हम एक नज़र मोहब्ब्त, नज़रो में उनकी देखने को तरसते है आज भी।

वो कहते है हमें की भूल जाए हम उनको और हम यक़ीन मोहब्ब्त का अपनी उन्हें दिलाते है आज भी।।

हर हादसा एक सबक जिंदगी का और हर सबक एक ज़ख्म है नासूर हमारा, नासूर हर ज़ख्म एक सौगात जिंदगी की समझते है हम आज भी।

लम्हा लम्हा हर लम्हा साए में मौत के साया जिंदगी का ढूंढते हुए, हर लम्हा जिंदगी को बेहद नज़दीक से देखते जा रहें है हम आज भी।।

हर ख़्वाब जिंदगी का हमारा टूटा हुआ, देखता है ख़्वाब एक हक़ीक़त का एहसास वो ख़्वाब हमारा टूटा हुआ जो आज भी।

तड़प साँसों की तड़पती है बेताब धड़कती धड़कने, हर धड़कती धड़कन एक आह है जिंदगी की हमारे जो आज भी।।

एक राह अंजानी मैं उसका हु मुसाफ़िर, ना साथ है कोई, ना आस पास है कोई, चलता चला जा रहा हु बेहिंतिया मैं आज भी।

तन्हा समा ये बंजर माहौल, दिखाता है अक्स हक़ीक़त का नज़दीक से टूटा एक आईना, दूर तलक है ख़ामोशी आज भी।।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

21/09/2019 at 11:17 pm

Advertisements

Leave a Reply