आज बहुत से व्यक्ति मेरे प्रति यही सोचते है कि मैं अपने जीवन उदेश्यों में असफल हो चुका हूं। अपने जीवन मे हार चुका हूं। यदि वह आज ऐसा कहते या सोचते है तो इसके पीछे भी कोई ना कोई कारण भी अवश्य ही होगा? परन्तु उन कारणों की वास्तविकता क्या है और क्यों है? ऐसे जानने कि किसी भी व्यक्ति की कभी भी कोई रुचि ना होगी। यदि आज कोई मुझ को असफल या हारा हुआ कहते हुए मुझ को तोड़ने का प्रयत्न करते हुए तोड़ देता है? तो क्या, मैं उन्हें अपने जीवन को संकट में डालने का दोषी सिद्ध करते हुए स्वयँ के संघर्ष को धुत्कार दु!

नही! मैं ऐसा नही कर सकता हु। परंतु आज वर्षो के संघर्ष के उपरांत मुझ को एहसास होता है कि जीव ने जीवन को अपने स्वयँ ही सँवारा है स्वयँ ही बिगाड़ा है, स्वयं ही बिगाड़ा है, हा स्वयं ही बिगाड़ा है।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।
24/10/2019 at 9:10 am

A Pain.

Today many people think towards me that I have failed in my life objectives. I have lost in my life. If he says or thinks so today, there must be some reason behind it too? But what is the reality of those reasons and why? Knowing that no person will ever have any interest. If today someone breaks me while trying to break me by calling me a failure or a loser? So what, while proving them guilty of putting their lives in jeopardy, I despise my own struggle!

no! I can not do this But today, after years of struggle, I realize that the creature has spoiled life on its own, has spoiled itself, has spoiled itself, and has spoiled itself.

Written by Vikrant Rajliwal.
24/10/2019 at 9:10 am

Advertisements

Leave a Reply