स्वयं को सबसे ख़ास समझते हुए अपने जीवन के हादसों को नकारना! कि मैं तो सबसे अलग हु मेरे साथ ऐसा कैसे हो सकता है। मेरी तो कोई भी ग़लती नही है। फिर मेरे साथ ऐसा कैसे हो सकता है? नही, नही मैं बिल्कुल सही हु, ऐसा तो हुआ है या नही हुआ है, मुझ को पता ही नही! अपने जीवन की समस्याओं को अस्वीकार करते हुए हमेशा ही मैं भागता रहा हु। और आज भी स्वयं को सबसे ख़ास या महत्वपूर्ण मानते हुए वास्तविकता को स्वीकार ना करू! तो मैं अपने जीवन को एक ऐसी क्रूर नरकाग्नि में स्वयं के द्वारा ना चाहते हुए भी स्वयं अपने जीवन को झुलसा दूंगा।

इसीलिए सर्वप्रथम मैं यह स्वीकार करता हु कि मैं भी एक पूर्णतः सामान्य जन के समान प्रसन्ता एवं आत्मशांति का हकदार हु। इसीलिए आज मैं अपने जीवन के उन सभी हादसों और समस्याओं को स्वीकारते हुए अपने स्वयं के विकास एवं आत्मशांति के प्रति ईमानदारी पूर्वक व्यवहार करता हु।

धन्यवाद।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

Accept The Truth.

Considering myself to be the most special, denying the accidents of my life, how can I be so different with me. There is no mistake of mine. How can this happen to me then? No, no, I am absolutely right, whether this has happened or not, I do not know! I have always been running away while rejecting the problems of my life. And even today, considering myself as the most special or important person and not accepting the reality, I will scorch my life in a cruel inferno fire even without wanting to by myself.

That is why, first of all, I accept that I am entitled to happiness and self-peace like a normal person. That is why today I accept all those accidents and problems in my life and behave honestly for my own development and self-peace.

Thank you

Written by Vikrant Rajliwal.

Advertisements

Leave a Reply