आप अपने दुष्विचारो एव दुर्व्यवहारों के कारण भूतकाल में जो अनमोल समय व्यर्थ बर्बाद कर चुके है उसका आपको एक सकारात्मक एहसास होना अति आवश्यक है एव वर्तमान में सत्य मार्ग को अपनाते हुए स्वम् के जर्जर व्यक्त्वि में सुधार करते हुए वर्तमान समय का सदुपयोग करना एव उस ओर अडिग रहना एक सुधार का मार्ग हो सकता है।

एव उस सुधार के मार्ग मार्ग पर चलते हुए अपने वर्तमान समय का ना चाहते हुए भी सदुपयोग ना कर पाना। अर्थात अपने से उच्च शक्ति के व्यक्त्वि के व्यक्तियों के अविश्वाश के फलस्वरुप उस अनमोल समय का भी अस्तित्व नष्ट हो जाना। एव तदुपरांत स्वम् की संकल्प शक्ति को जाग्रत कर निरंतर सत्य मार्ग की ओर अग्रसर रहते हुए। सुधार के मार्ग पर अग्रसर रहते हुए उन नष्ट हुए अनमोल अवसरों की पुनः प्रप्ति आपकी रिकवरी हो सकती है। जिसको आपने अपनी दृढ़ संकल्प शक्ति के द्वारा समस्त उच्च शक्ति के व्यक्त्वि के व्यक्तियों के विरोध स्वम् की ईमानदारी एव संकल्प शक्ति पर विशवास रखते हुए पुनः प्राप्त किया है।

संकल्प शक्ति एव उसके विकास पर कार्य के द्वारा आप एक वास्तविक चमत्कार कर सकते है। चमत्कार स्वम् की संकल्प शक्ति एव अनुशाशन के प्रयोग द्वारा स्वम् के एक उच्च व्यक्त्वि का निर्माण कर के एव उस उज्ज्वल व्यक्त्वि के द्वारा अन्य जरूरतमन्दों को भी उस दिव्य मार्ग से अवगत करवाना।

इस प्रकार से आप स्वम् के वास्तविक अनुभवों के द्वारा स्वम् की संकल्प शक्ति का निरन्तर विकास करते हुए अपने व्यक्त्वि का एक सकरात्मक विकास कर सकते है।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित स्वम् के सत्य अनुभवों से प्रेरित।

प्रथम प्रकाशन 12 जून 2019 1:55 pm

(पुनः प्रकाशित)

Advertisements

Leave a Reply