💥 सत्य। (रेपब्लिशेड)

VIKRANT RAJLIWAL WRITING POETRY, SHAYRI, STORY, ARTICLES, BLOG’S AND WEBSITE’S

MENU
Posted on
JANUARY 14, 2020 #repost #share

💥 सत्य।

by Voice Of Vikrant Rajliwal ( My Writing, My Blogs & My Voice).In Anecdote, Article , लेख।, अध्यात्मितकता, दास्तान, विचार, शिक्षा, Blog, Education, Feelings, Information, Spirituality, Thought.Leave a Commenton 💥 सत्य।

आज की मेरी यह पोस्ट उन मासूम बच्चों एव नवयुवकों को समर्पित है; जो आज भी किसी ना किसी हानिकारक व्यसन की चपेट में फंस कर, अपने जीवन को बर्बाद किए जा रहे है या जो अब किसी हानिकारन व्यसन का सेवन तो नही कर रहे, परन्तु उन्हें अपने जीवन मे प्रगति करने के लिए कुछ दिशा निर्देश नही प्राप्त हो रहे है।

मैं विक्रांत राजलीवाल भी अपने बच्चपन में 14 से 16 वर्ष की आयु में अज्ञानवश कई हानिकारक व्यसन का सेवन कर लिया था। एवं 16 वर्ष की आयु में मैने अपने पिताजी से सहायता मांगी और उन्हें अपनी वास्तविक मनोस्थिति से अवगत करवाया; तदोपरांत कई वेद, हकीमों, तांत्रिकों और हस्पताल के इलाज से थक हार कर अंत मे मुझ को नारकोटिक्स एनॉनिमस के कार्यक्रम से जुड़ने का एक अवसर प्राप्त हुआ। परंतु इसे किस्मत की अनहोनी कहे यह भाग्य का लेखा कि मुझ को नारकोटिक्स एनॉनिमस का कार्यक्रम एक बंधक अवस्ता में प्राप्त हुआ एवं जहाँ आप के प्रत्येक मनोभवो को आपकी चाल या वहाँ से मुक्ति हेतु कोई घिनोनी सजिक के रूप में ही देखा जाता है। जो आपके सकरात्मक एहसास को इस प्रकार से कुचल देता है कि जैसे आपका स्वयं का कोई वजूद ही ना हु। और आपको ऐसा एहसास होता है मानो सरेराह आपके मासूम व्यक्त्विक का बलात्कार किया जा रहा हु और आपकी सहायता हेतु कोई भी ईमानदार व्यक्तित्व वहाँ उपस्थित ना हु। उस समय मेरे साथ वहाँ समाज के छठे हुए अपराधि जो अपने गुनाह की सजा जेल कारावास के रूप में कठोर दंड भुगत चुके थे। के मध्य प्राप्त हुआ। जिनमे से अधिकतर मेरी ही हम उम्र के 17 से 19 वर्ष के हु थे।

मैंने वहाँ डिस्चार्ज प्राप्त किया एवं 13 महीनों तक उनके साथ जुड़ा रहा। तदोपरांत मैंने सोचा कि अब पढ़ाई करनी चाहिए। जिसके परिणामस्वरूप उन्होंने मुझ को घर जाने की इजाजत रद्द कर दी। उस स्थिति में भय के मारे मैं उनके ऑफिस से भागा, और तुरन्त पकड़ा भी गया। जिसके दंड स्वरूप मुझ को पुनः एक अंदर रस्सियो से बांध कर डाल दिया गया। और भी कई प्रकार की यातना झेलने के उपरांत। जिसमे सबसे घातक थी रस्सियों के मध्य बंधक अवस्था मे एक अन्य साइको पेशेंट के जरिए बिजली की तारो से करंट लगाने का एक घिनोना प्रयास को अंजाम देना। उस अवस्था में मेरी समीप के एक मित्र में उसको पकड़ कर मेरी जान बचाई। खैर ऐसे ही बहुत यातनाओं को फेस कर के मेरा पुनः डिस्चार्ज हुआ।

अब जिस स्थिति मैं था उस स्थिति में दो मार्ग मेरे समुख थे प्रथम क्रोध वश पुनः नशा करते हुए जीवन को बर्बाद कर दु या स्वयं को साक्षर कर के स्वयं के स्वप्न IAS की परीक्षा को उतरीं करने का एक कठोर एवं जटिल मार्ग पर चलने की हिम्मत दिखा सकु। जिससे मुझ में वह समर्थ आ सके कि मैं भविष्य में कई मासूम बच्चों एव नवयुवकों की सहायता प्रदान कर सकूँ। तो मैंने द्वितीय मार्ग को चुना एवं 10वी से ग्रेजुएशन तक साक्षर होने एवं ज्ञान अर्जित करने के लिए मेने प्रयास किया। इसी दौरान मेने एक वर्षीय कम्प्यूटर कार्यक्रम के साथ ताइपिंग भी सीखी। कोचिंग करि। एवं असिस्टेंट कमंडेड से लेखक IAS तक कि परीक्षा को फेस करा। अंततः सरस्वती माँ की कृपा हुई और वर्ष 2016 में सामाजिक एवं मानवता की भवनाओं से प्रेरित अपनी प्रथम काव्य एवं कविताओं की पुस्तक प्रकाशित हुई। और वर्ष 2017 में मैने अपना प्रथम ब्लॉग बनाया और अपने ब्लॉग के साथ सोशल मीडिया पर भी लिखता रहा हु। और अब सक्रिय हु।

अंत में मैं इतना ही कहना चाहूंगा कि…

🕊️ ए मासूम परिंदों देखेगा यह सम्पूर्ण संसार तुम्हारी अनन्त उड़ान को। मसल कर रख दु हर विपरीत परिस्थितियों एव हालातो को; कि दिखा सकूँ जो अकेले ही चलते चले जाने की हिम्मत तो मान जो कारवाँ हमें ना मिल सका उसे तुम अवश्य पा जाओंगे, उसे तुम अवश्य पा जाओंगे हा उसे तुम अवश्य पा जाओंगे।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित एक सत्य।

दिल्ली विश्विद्यालय के फेकल्टी ऑफ लॉ में वर्ष 2018 के दौरान वार्षिक खेल महोत्सव में काव्य एवं नज़म का सुनाते हुए।
Advertisements

एक सूचना।

🌅 सुप्रभात मित्रों शीघ्र ही आपको मेरी ब्लॉग वेबसाइट पर प्रकाशित मेरी रचनाओँ एवं कहानी के संग्रह के साथ ही ; मेरी प्रथम विस्तृत कहानी पाठन हेतु उपलब्ध करवा दी जाएगी।

जिसके शीर्षक से आपको शीघ्र ही सूचित कर दिया जाएगा। कृपया अपना अनोमोल प्रेम स्वरुप आशीर्वाद प्रदान कीजिए।

कवि शायर एवं कहानीकार विक्रांत राजलीवाल।

खामोश एहसास।

भूतकालीन जीवन के कर्मों पर लगा कलंक; अपने जिस्म में बहते हुए लहू के आखरी कतरो से भी जब मिटा ना सके। हर बढ़ते कदम से खुद को जब हम और भी तन्हा महसूस करते गए।। हर आँसू बेमाने और ये ज़िंदगी, ये साँसे, ये धड़कती हर धड़कने इल्जाम कोई बेहूदा सा सिद्ध होने लगे।

आज दिल और रात स्वयं को सुधार के मार्ग पर किसी प्रकार स्थिर रखते हुए। जिंदगी के प्रत्येक क्षण सत्य का सामना करते हुए। गैरो की क्या बात करू खुद अपनो से झूझते हुए। अनजान चेहरों के समक्ष, अंजान माहौल में अपने जीवन पर लगे कलंक को धोते हुए। जब हिम्मत टूट जाती है। जिन्दगी खुद जिन्दगी को ठोकर मारने पर विवश हो जाती है। तब भी स्वयं को किसी प्रकार से सम्भालते हुए।

ऐसे निर्मोही कठोर मार्ग पर सत्य को थामे हुए; साक्षरता को अपना एक मित्र, और अपनी रचनाओं को अपना जीवन मानते हुए। चले जा रहा हु; हर कदम से स्वयं के समीप और अपनो से दूर हुए जा रहा हु। आदत नही अपना दुख बयां करने की फिर भी हर इल्जाम को बेदर्द जिंदगी के ख़ामोशी से सहता जा रहा हु। हा मैं एक रचनाकार हु जो अपनी कलम से अपने जीवन के कलंक को मिटाने का एक असफल प्रत्यन करते हुए बस जीवन को जिए जा रहा हु; हा बस जिए जा रहा हु; हा बस जिए जा रहा हु।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

🕯️🏷️एहसास।/🕯️🏷️ My Feeling's.

आज किसी ने पूछा कि क्या आप शायरी के कार्यक्रम के लिए प्रतिष्ठित संस्थाओं से सम्पर्क के इच्छुक है तो हम आपकी भेंट करवा सकते है?

तो मैंने अत्यंत ही सरल शब्दों में उत्तर दिया कि जी शुक्रिया परन्तु साहित्य के मसले में मैं किसी किंग से कम स्वयं को नही समझता हूं। यस आई एम ए किंग ऑफ़ एक्सप्रेस मय ओं फीलिंग्स थ्रो मय पोएट्री 📝।

इससे अलग मैं चपड़ासी भी हु, क्लर्क भी हु, ग्रेजुएट हु, वन ईयर कम्प्यूटर कोर्स किया है। टाइपिंग जानता हूं। जीवन में कड़ा संघर्ष करने के उपरांत, 17 वर्ष की उम्र में पुनर्वास का कठोर दंड भुगतने के उपरांत, जीवन के प्रत्येक क्षण सत्य का सामना करते हुए। 10वी से दिल्ली यूनिवर्सिटी से स्नातक, कम्प्यूटर कोर्स, टाइपिंग सिख सका हु। हा मै एक मामूली आदमी के समान कार्य करता हु।

परन्तु यहाँ साहित्य का विषय आता है तो मै विकाऊ नही, आई एम ए किंग। मैं स्वयं के लिए लिखता हूं, गाता हु, रिकार्ड करता हु। अपनी सेल्फ पब्लिश्ड किताब प्रकाशित करवाता हु। क्यों? क्योंकि ई आम नॉट फ़ॉर सेल।

धन्यवाद।

विक्रांत राजलीवाल।

Today someone asked if you are willing to contact prestigious institutions for the program of poetry, then we can meet you?

So I replied in very simple words, thank you, but in the matter of literature, I do not think of myself as less than a king. Yes I’m a King of Express May On Feelings Through My Poetry.

Apart from this, I am a peon, a clerk and a graduate, have done one year computer course. I know typing After struggling hard in life, at the age of 17, after facing the harsh punishment of rehabilitation, facing the truth every moment of life. I graduated from Delhi University from 10th, computer course, learned typing. Yes, I act like a modest man.

But here comes the subject of literature, so I am not sold, Yes, I MA King of my literature. I write for myself, sing, record. I get my self published book published. Why? Because I am not for sale.

Thank you.

Vikrant Rajliwal.

True Experience.

Today, when someone who knows and understands me closely from me, asks what is the real reason behind the positive change that is happening within you? Then I would like to tell them that in the year 2000, when I was 15 or 16, I contacted my father and informed him that my health is bad and on the way I told him the reality that someone should fill me with a cigarette Has given drink And this has been happening for a long time. Then my father became very angry with me. And they said to me with the same angry voice that you should tell all this to the doctor!

The most important first topic here is that I was willing to accept the truth in my ignorant age, and to free myself from all kinds of harmful substances. And the second most important topic is that at that time the knowledge to understand my real situation was not available to myself and my family. For this reason, I was imprisoned at home despite not wanting due to ignorance. What would be the health, my physical and mental health also got greatly distorted. Due to this ignorance, I also suffered many physical and mental injuries. Whose pain I may not be able to express even if I want to.

Thereafter, my father provided me with a cure for health enhancement through many Hakiams, tantrikas and hospitals. But all were found in futility. Finally in the year 2004, I was admitted to the rehabilitation center. Where I was getting the knowledge that I was facing after facing many complicated and difficult results, I realized that this is what I needed and still am! But in this way, like a prisoner, in punitive situations, like a bird in a cage, I may not be able to achieve health in an environment of fear. While ignoring all the complex and harsh results there, the divine knowledge that I was receiving is just life.

And while accepting the position of prisoner, I continued to adopt divine knowledge of my life as a slave. But today after 15 years, in December, 2019, I can say that the divine knowledge that I was in need of at the age of 15 or 16 in 2000. The unknown path which I had chosen for myself by truth. I could not work in my life in an environment of Dependence like a prison and forcefully. But this does not mean that that divine knowledge proved futile in my life. But in a free environment today without any restriction, with a self-acknowledgment of self-free and positive efforts, after graduation from Delhi University free of all kinds of harmful addictions from 28 months to 5 days, through a creative writing of literature I am doing service

That is why if a positive change can come in my life, then you or your family or the child who is stuck in the grip of addictions can also have a positive change in their life. And they can do a better job than me. If they just need, then a qualified person and friend who can understand their problems closely can help them by understanding them and their problems.

Written by Vikrant Rajliwal.

एक सत्य अनुभव।

आज मुझ से मुझ को समीप से जानने एवं समझने वाला कोई व्यक्ति जब  पुछता है कि आप के भीतर जो एक सकरात्मक परिवर्तन देखने को प्राप्त हो रहा है उसके पीछे वास्तविक कारण क्या है? तब मैं उनसे यही कहना चाहूंगा कि वर्ष 2000 में जब मैं 15 या 16 वर्ष का था तब मैंने अपने पिताजी से संपर्क कर उन्हें सूचित किया कि मेरी तबियत खराब है एवं राह में मैने उनसे वास्तविकता बतलाई कि मुझ को किसी ने सिगरेट में कुछ भर कर पिला दिया है। और ऐसा बहुत समय से हो रहा है। तब मेरे पिता जी मुझ पर अत्यंत क्रोधित हो गए। और उन्होंने मुझ से उसी क्रोधित स्वरों के साथ कहा कि यह सब डॉक्टर को बतइयो!


यहाँ सबसे अहम प्रथम विषय यह है कि मैं आपका अपना मित्र उस अबोध उम्र में सत्य स्वीकार कर, स्वयं हर प्रकार के हानिकारक प्रदार्थों से मुक्त होने के लिए इच्छूक था। एवं दूसरा सबसे अहम विषय यह है कि उस समय मेरी वास्तविक स्थिति को समझ सकने का ज्ञान स्वयं मुझ को एवं मेरे परिवारजनों को भी उबलब्ध नही था। इसी कारण अज्ञानता के कारण ना चाहते हुए भी मैं घर में कैद हो कर रहा गया। स्वास्थ्य तो क्या प्राप्त होता मेरा शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ्य भी अत्यधिक विकृत होता गया।  इसी अज्ञानता के कारण मुझ को कई प्रकार की शारिरिक एवं मानसिक चोटें भी लगी। जिनके दर्द को शायद मैं चाह कर भी बयां ना कर सकूँ।

तदोपरांत मेरे पिताजी ने कई हकीमों, तांत्रिकों एवं हॉस्पिटल से मुझ को स्वस्थ्य वृद्धि हेतु इलाज मुहैया करवाया। परन्तु सब व्यर्थता को प्राप्त हुए। अंततः वर्ष 2004 मैं मुझ को पुनर्वासकेन्द्र मै भर्ती करवाया गया। जहाँ बहुत से जटिल एवं कठोर परिणामो को झेलने हुए मुझ को जो ज्ञान प्राप्त हो रहा था उससे मुझ को एहसास हुआ कि हा इसी की तो मुझ को अत्यंत आवश्यकता थी और अब भी है! परन्तु इस प्रकार से एक कैदी की भांति, दण्डनात्मक परिस्थितियों में, इस प्रकार एक पिंजरे के पंछी की भांति डर के माहौल में शायद मैं स्वास्थ्य को प्राप्त ना कर सकूँ। जबकि वहाँ के समस्त जटिल एवं कठोर परिणामो को नज़रंदाज़ करते हुए, जो दिव्य ज्ञान मुझ को प्राप्त हो रहा था बस वही तो जीवन है।


एवं कैदी सी की स्थिति को ना चाहते हुए भी स्वीकारते हुए, एक गुलाम कि भाँति अपने जीवन के दिव्य ज्ञान को मैं अपनाता रहा। परन्तु आज 15 वर्षो के उपरांत दिसम्बर वर्ष 2019 में मैं यह कह सकता हु की वह दिव्य ज्ञान जिसकी मुझ को वर्ष 2000 में 15 या 16 वर्ष की उम्र में अत्यधिक आवश्यकता थी। जिस अनजान मार्ग को सत्य के द्वारा मैंने स्वयं के लिए स्वयं ही चुना था। एक अस्वतंत्र एवं जोरजबरदस्ती के माहौल में मेरे जीवन मे  कार्य ना कर सका। परन्तु इसका तातपर्य यह नही की वह दिव्य ज्ञान मेरे जीवन मे व्यर्थ सिद्ध हुआ। अपितु एक स्वतंत्र माहौल में  आज में बिना किसी बन्धन के, एक आत्मस्वीकृति के साथ स्वयं के स्वतंत्र एवं सकरात्मक प्रयासो के साथ 28 महीने 5 दिनों से हर प्रकार के हानिकारक व्यसनों से मुक्त दिल्ली यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन के उपरांत, एक रचनात्मक लेखनी के द्वारा साहित्य की सेवा कर रहा हु।

इसीलिए यदि मेरे जीवन में एक सकरात्मक परिवर्तन आ सकता है तो तो आप या आपके परिजन या वह बालक जो व्यसनों की गिरफ्त में फंसे हुए है, उनके जीवन मे भी एक सकरात्मक परिवतर्न अवश्य उतपन हो सकता है। एवं वह मुझ से भी बहुत अच्छा कार्य कर सकते है। बस उन्हें आवश्यकता है तो उनकी समस्याओं को समीप से समझ सकने वाले एक ऐसे योग्य व्यक्ति एवं मित्र की जो उन्हें एवं उनकी समस्याओं को समझते हुए उनकी सहायता कर सके।


विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

💥 एक संकल्प एक योगदान।

मित्रों मेरे जीवन का केवल एकलौता मकसद यही है कि मैं अपने जीवन अनुभवो से उन मासूम बालको को एक उचित दिशा का ज्ञान करवा सकूँ जो आज भी किसी ना किसी नशे की गिरफ्त में फंस कर अपना उज्वल भविष्य अनजाने ही बर्बाद कर रहे है।

काव्य शायरी नज़म ग़ज़ल दास्ताने लिखना एवं गाना केवल मेरा निजी शोक है एवं मैं जो पोस्ट करता हु की आप मेरा काव्य नज़म ग़ज़ल दस्तानों का कार्यक्रम बुक कर सकते है तो इसके पीछे केवल और केवल एकलौता कारण यही है कि मुझ को उन मासूम नशे से पीड़ित उन अबोध बालको की मदद करने हेतु बहुत सा रुपया चाहिए। जिससे मैं उन्हें कुछ मूलभूत सुविधाए प्रदान कर सकूँ। जिससे उनका उनके परिवार में पुनर्वास हो कर उनका जीवन  स्तर कुछ सुधर सके।

इसीलिए आप मेरा साहित्यिक काव्य शायरी का कार्यक्रम बुक कर के सीधे उन मासूम बच्चों को एक नया जीवन सहज ही प्रदान कर सकते है। इसके साथ ही यदि आप स्वयं किसी नशा मुक्ति या बाल सुधार कार्यक्रम के संचालक है तो आप आप ही मेरा साहित्यिक काव्य शायरी का कार्यक्रम निःशुल्क बुक कर अपना स्थान सुनिचित कर सकते है। मुझ को पूरी उम्मीद है कि जब आपके पेशेंट अपने बीच मे से ही निकले हुए किसी साहित्यकार की रचनाओँ को सुनेंगे तो उन्हें अवश्य ही आत्मशांति प्राप्त होएगी।
निम्नलिखित नम्बर के ज़रिए व्हाट्सएप पर मुझ से सम्पर्क कर सकते है

91+9354948135
दिल्ली 84

💥 नशा एवं पारिवारिक कलेश एक दूसरे के साथ साथ ही चलते है। यहाँ नशे से तातपर्य है कि जब आप का आपके व्यसनों पर नियन्त्रण शेष नही बच पाता। या फिर आप नशे के समक्ष स्वयँ को जर्जर महसूस करते हुए अपना नियन्त्र खो देते है।

जब ऐसा होता है तो आपका सामना होता है पारिवारिक कलेश से एवं तब आपको आवश्यकता होती है एक ऐसे ज्ञानी या अनुभवी व्यक्तित्व के व्यक्ति की जो आपकी उस स्थिती को समझने में आपकी सहायता कर सकें।

यदि आप भी ऐसी ही किसी समस्या से सामना कर रहे है तो आज ही विक्रांत राजलीवाल जी से यानी कि मुझ से मिल कर अपनी समस्या का 100%स्थाई  समाधान प्राप्त कर सकते है वह भी बिल्कुल निशुल्क।

क्योंकि रचनात्मक रचनाएँ लिखना मेरा शौक है एवं नशा मुक्ति से पारिवारिक कलेश मुक्ति मेरा कर्म है। मैं नज़म शायरी, दास्तानों के कार्यक्रम के लिए पेमेंट इसलिए लेता हूं क्यों कि उन रुपयों से मैं अधिक विस्तृत पैमाने पर नशा मुक्ति एवं पारिवारिक कलेश मुक्ति हेतू निःशुल्क सेवा इस समस्त संसार के उन पीड़ित परिवारों को उपलब्ध करवा सकूँ।

इसलिए आप यदि मुझ से मेरी नज़म दस्तानों, काव्य, नज़म ग़ज़ल का कोई भी कार्यक्रम करवाते है तो आप सीधे तौर पर समाज के उन पीड़ित परिवारों के कल्याण हेतु अपना एक अनमोल सहयोग सहज ही प्रदान कर देते है।

अंतः एक बार पुनः आप सभी को सूचित करता हु की यदि आप उपरोक्त विषय नशा मुक्ति एवं पारिवारिक कलेश मुक्ति की समस्या का एक स्थाई समाधान प्राप्त करना चाहते है तो आज ही विक्रांत राजलीवाल जी से यानी कि मुझ से सीधा सम्पर्क कीजिए।

साथ ही आप मेरा कोई नज़म ग़ज़ल, काव्य-कविताओं के साथ नज़म दस्तानों का सांस्कृतिक एवं मंनोरंजक कार्यक्रम भी बुक कर सकते है। मेरा सम्पर्क सूत्र नीचे अंकित है।

धन्यवाद।
विक्रांत राजलीवाल।

सम्पर्क सूत्र है।

वट्सअप नम्बर:: 91+9354948135

दिल्ली 84

एक आभार। 🙏

वर्ष 2008 में, जीवन एक दम से बदल गया। अचानक ही मुझ को, जब पता चला कि इस बार जो मेरे हाथों में किताब है। वह वास्तविक रूप से सत्य है। एवं मैने परीक्षा की तैयारी, प्रारम्भ कर दी। अब मैं पूर्व की अपेक्षा, स्वयं को अधिक सन्तुष्ट, महसूस कर पा रहा था। आज लगभग 6 वर्षो के गेप के उपरांत, मेरे हाथों में एक बार पुनः सरस्वति विराजमान थी। जो मुझ से कह रही थी कि यही अवसर है पुत्र, स्वयँ के अज्ञान को दूर करते हुए। ग्रेजुएट साक्षरता को प्राप्त करने का।

उस समय मैं शायद अपनी उन भावनाओं से कुछ अनजान था। एवं आज लगभग 11 वर्षो के उपरांत दिल्ली यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएट होने के उपरांत, एवं निरन्तर सक्रिय रहते हुए मुझ को, जो साहित्यिक रचनाओँ को रचने का एक अवसर, एक वरदान स्वररूप प्राप्त हुआ है। मैं चाह कर भी, अपनी इस भावना को, शायद व्यक्त ना कर सकूँ।

मैं यानी कि आपका अपना मित्र विक्रांत राजलीवाल, माँ सरस्वती समेत आपने इष्ट देवताओं एवं आप आप सभी प्रशंशको का हार्दिक आभार व्यक्त करता हु।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।

3 नवम्बर वर्ष 2019 समय प्रातः 9:27 बजे।

एक सत्य।

अपने भूतकाल में क्या क्या कुकर्म किए थे! यह इस संसार के लिए इतना अधिक महत्व नही रखता, जितना कि आपके वर्तमान काल मे किए गए सत्यकर्म।

इसीलिए अपने भूतकाल की अज्ञानता को स्वीकारते हुए, जो मनुष्य अपने वर्तमान काल मे अपनी इंद्रियों को जागृत करते हुए, सत्यकर्म करते है वह वास्तविकता में प्रेम एवं सहानुभूति के पात्र होते है।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखीत।

3 नवम्बर वर्ष 2019 समय प्रातः 7:48 बजे

एक टिस। // A Pain.

आज बहुत से व्यक्ति मेरे प्रति यही सोचते है कि मैं अपने जीवन उदेश्यों में असफल हो चुका हूं। अपने जीवन मे हार चुका हूं। यदि वह आज ऐसा कहते या सोचते है तो इसके पीछे भी कोई ना कोई कारण भी अवश्य ही होगा? परन्तु उन कारणों की वास्तविकता क्या है और क्यों है? ऐसे जानने कि किसी भी व्यक्ति की कभी भी कोई रुचि ना होगी। यदि आज कोई मुझ को असफल या हारा हुआ कहते हुए मुझ को तोड़ने का प्रयत्न करते हुए तोड़ देता है? तो क्या, मैं उन्हें अपने जीवन को संकट में डालने का दोषी सिद्ध करते हुए स्वयँ के संघर्ष को धुत्कार दु!

नही! मैं ऐसा नही कर सकता हु। परंतु आज वर्षो के संघर्ष के उपरांत मुझ को एहसास होता है कि जीव ने जीवन को अपने स्वयँ ही सँवारा है स्वयँ ही बिगाड़ा है, स्वयं ही बिगाड़ा है, हा स्वयं ही बिगाड़ा है।

विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।
24/10/2019 at 9:10 am

A Pain.

Today many people think towards me that I have failed in my life objectives. I have lost in my life. If he says or thinks so today, there must be some reason behind it too? But what is the reality of those reasons and why? Knowing that no person will ever have any interest. If today someone breaks me while trying to break me by calling me a failure or a loser? So what, while proving them guilty of putting their lives in jeopardy, I despise my own struggle!

no! I can not do this But today, after years of struggle, I realize that the creature has spoiled life on its own, has spoiled itself, has spoiled itself, and has spoiled itself.

Written by Vikrant Rajliwal.
24/10/2019 at 9:10 am