Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal Creation's -स्वतंत्र लेखक-

काव्य-नज़्म, ग़ज़ल-गीत, व्यंग्य-किस्से, नाटक-कहानी-विक्रांत राजलीवाल द्वारा लिखित।-स्वतंत्र लेखक-

Mar 29, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

सत्य है। // Its True.

अपने जीवन के संघर्ष का दृढ़तापूर्वक सामना करना एव उन पर विजय प्राप्त करना ऐसे ही है जैसे कि सूर्य और प्रकाश। यह दोनों ही तथ्य एक दूसरे के पूरक है। एव एक की अनुपस्थिति में दूसरे की उपस्थिति हो ही नही सकती। इसीलिए जब हम अपने जीवन के संघर्षो का सामना करते है तो […]

Mar 28, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

🇮🇳 नरेंद्र दामोदरदास मोदी। //🇮🇳 Narendra Damodardas Modi

नरेंद्र दामोदरदास मोदी जी भारतवर्ष के उन चंद चुनिंदा प्रधानमंत्री की श्रेणी में अब हमेशा ही गिने जाएंगे जिन्होंने भारतवर्ष के चमत्कारों की चमक से इस सम्पूर्ण संसार की घमण्ड से चूर आंखों को चुंधिया दिया है। और सम्पूर्ण संसार को भारतवर्ष के सम्मान करने के लिए सहज ही विवश कर दिया है। इनके (नरेंद्र […]

Mar 23, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

🇮🇳 23 मार्च।

🇮🇳 23 मार्च के दिन, शहीद-ए-आजम भगतसिंह, सुखदेव एव राजगुरु के शहीदी दिवस पर मैं विक्रांत राजलीवाल उन्हें समानपूर्वक एक भावविभोर श्रधांजलि अर्पित करता हु। इसके साथ ही उनके बुलंद नारे इंकलाब जिंदाबाद के द्वारा आज के भृष्ट होती राजनीती की मृत होती आत्मा को जीवंत करने हेतु एक बुलंद आव्हान करता हु। इंकलाब जिंदाबाद, […]

Mar 16, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

😠 जिंदा। // 😠 Alive

खुद की हिम्मत पर रखते है आज भी हम उतना ही यकीन, की हर विरोधियों को अपने अपनी एक खामोशी से आज भी कर देते है क़त्ल हम। ना समझना बूत कोई बेजान हमे की भूल तुम्हारी ये तुम्हे, कर ना दे बर्बाद, हर चाल, हर दग़ा, हर वॉर घिनोना तुम्हारा कर न दे खुद […]

Mar 15, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

🇮🇳 Sensitive Issue.

Some people say that the issue of 2019 is unemployment, someone says that education is not the goal behind the education of the young, hence the unemployment is there. I say that the misery is not that most of the educated youth who are considered to be the foundations of every civilized society are unemployed […]

Mar 15, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

🇮🇳 मुद्दा गर्म है।

कुछ लोग कहते है कि 2019 का मुद्दा है बेरोजगारी, कोई कहता है कि शिक्षित युवा की शिक्षा के पीछे लक्ष्य नही है इसीलिए बेरोजगारी है। मैं यह कहता हु कि दुख इस बात का नही है कि हर सभ्य समाज की नींव समझे जाने वाले अधिकतर शिक्षित युवा वर्ग हर बार प्रतियोगिता परीक्षा में […]

Mar 15, 2019
Writer, Poet & Dramatist Vikrant Rajliwal -स्वतंत्र लेखक-

no comments

Its True.

It was known from the morning’s news that the Mumbai Footover Bridge collapsed suddenly on Yesterday evening. Many of the Mumbaikars, who did not know how many innocent people had to lose their lives. It is true that whenever I look at the news channels in the 21st Century my country of India joining this […]